Latest

बुराड़ी के बाद हजारीबाग में एक ही परिवार को 6 लोगों की मौत, मैथ के फार्मूले में सुसाइड नोट

हजारीबागः बुराड़ी में एक ही परिवार के लोगों की मौत लोग भूल नहीं पाए थे कि अब झारखंड के हजारीबाग में वैसी ही मिलती-जुलती घटना सामने आई है।  हजारीबाग में एक ही परिवार के 6 सदस्यों ने कथित तौर पर सुसाइड किया है। 6 लोगों की मौत से इलाके में हड़कंप मच गया है। पुलिस को घर में एक लिफाफे पर सुसाइड नोट मिला है। सुसाइड नोट में मैथ के फार्मूले से खुदकुशी को समझाया गया है। सुसाइड नोट के मुताबिक परिवार ने कर्ज से परेशान होकर तनाव के चलते सामूहिक खुदकुशी की है। वहीं पुलिस इस केस में हर पहलू से जांच कर रही है। परिवार के छह सदस्यों में से पांच ने फंसे से लटक कर खुदकुशी की है जबकि एक सदस्य ने छत से कूछ कर जान दी है।
13 36 211559070suciide ll
मरने वाले सदस्यों में-माता-पिता, बेटा-बहू और पोता-पोती शामिल हैं। मृतक महावीर महेश्वरी (70 साल) हजारीबाग के महावीर स्थान चौक पर ड्राई फ्रूट्स होलसेल की दुकान चलाते थे। उनका शव और उनकी पत्नी किरण महेश्वरी (65) का शव फंदे से लटका हुआ था जबकि इकलौते बेटे नरेश अग्रवाल (40) का शव पांचवे फ्लोर के नीचे मिली है, आशंका है कि उन्होंने कूद कर खुदकुशी की हो।  बहू प्रीति अग्रवाल (37) का शव  पलंग और पोती यान्वी (6 साल) का शव सोफे पर मिला है। जबकि पोता यमन (11) का गला कटा हुआ था।
13 36 272555070sucide note ll
ये लिखा सुसाइड नोट में
घटनास्थल से मिले एक लिफाफे पर सुसाइड नोट लिखा हुआ है। इसमें लिखा है कि यमन को लटका नहीं सकते थे इसलिए हत्या की गई। आगे गणित के फार्मुले से खुदकुशी को समझाया गया है। ‘बीमारी+दुकान बंद+ दुकानदारों का बकाया न देना+ बदनामी+ कर्ज= तनाव → मौत।’
13 37 222611070hararibagh ll
वहीं अग्रवाल के नजदीकी रिश्तेदारों और आसपड़ोस के लोगों का कहना है कि पूरा परिवार काफी सीधा था। नरेश के चचेरे भाई बताया कि इनका बिजनैस काफी फैला हुआ था लेकिन मार्किट में पैसा फंसा हुआ था। नरेश के भाई के मुताबिक इनका करीब 50 लाख रुपए तक की रकम फंसी हुई थी। पैसा नहीं मिलने से ये लोग परेशान थे क्योंकि इन पर कर्जा चढ़ रहा था। हालांकि दो महीने पहले पूरा परिवार टूर पर गया था।

Leave a Reply

Back to top button