FEATUREDराष्ट्रीय

Weather Forecast: न्यूनतम तापमान माइनस में, जानें मौसम पूर्वानुमान

Weather Forecast हिमाचल प्रदेश में इस बार 25 दिसंबर को व्हाइट क्रिसमस के आसार कम हैं। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के अनुसार 24 और 25 दिसंबर को पूरे प्रदेश में मौसम साफ रहने का पूर्वानुमान है। हालांकि, मध्य और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में 22 और 23 दिसंबर को कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश और बर्फबारी की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता से मौसम में यह बदलाव आएगा। जबकि मैदानी इलाकों में एक सप्ताह तक मौसम साफ रहने का पूर्वानुमान है। बता दें कि इस बार प्रदेश में नवंबर माह से बर्फबारी का दौर जारी है। दिसंबर महीने में भी ऊपरी इलाकों में बर्फ गिरती रही। ऐसे में लाहौल के सिस्सू, रोहतांग, केलांग, भरमौर, पांगी, शिकारी देवी, कमरुनाग, चूड़धार के ऊपरी इलाके अभी भी बर्फ से लकदक हैं।

मनाली, लाहौल में रोजाना हजारों की संख्या में सैलानी बर्फ की चाह में पहुंच रहे हैं। कुल्लू-मनाली के अलावा शिमला, चायल, कसौली, डलहौजी में क्रिसमस और न्यू ईयर के लिए अभी से होटलों की एडवांस बुकिंग हो गई है। उत्तर रेलवे ने पर्यटकों की सुविधा के लिए सोमवार से कालका से शिमला के लिए एक और स्पेशल ट्रेन शुरू कर दी है। उधर, प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप जारी है। सुबह-शाम ठिठुरन जारी है। राज्य के सात क्षेत्रों का न्यूनतम तापमान माइनस में दर्ज किया गया है। आज राजधानी शिमला व अन्य भागों में मौसम साफ बना हुआ है।

कड़ाके की ठंड से कुल्लू में जाम होने लगे पेयजल स्रोत
दिसंबर महीने में कड़ाके की ठंड के चलते कुल्लू में पेयजल स्रोत जाम होने लगे हैं। पेयजल स्रोत जाम होने से पेयजल योजनाओं की आपूर्ति पर असर पड़ रहा है। जिले में ग्रामीण क्षेत्रों की 30 पेयजल योजनाओं पेजयल स्रोत जमने के कारण प्रभावित हो रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों की इन पेयजल योजनाओं में सुबह के समय पानी की आपूर्ति ठप पड़ रही है। धूप लगने के बाद सप्लाई सुचारु हो रही है। पेयजल योजनाओं में पानी की आपूर्ति पर भी करीब 50 फीसदी तक असर पड़ा है।

कुल्लू, मनाली, बंजार सहित अन्य इलाकों की ग्रामीण क्षेत्रों की पेयजल योजनाओं पर कड़ाके की ठंड के चलते असर हुआ है। जबकि पीज क्षेत्र के लिए पेयजल आपूर्ति में पानी कम रहा गया है। यहां पर लोगों को पेयजल को लेकर दिक्कतें आ रही हैं। जल शक्ति विभाग के अधीक्षण अभियंता विनोद ठाकुर ने कहा कि पेयजल स्रोत जमने के कारण करीब 30 योजनाओं में पेयजल की आपूर्ति पर असर पड़ा है। इन पेयजल योजनाओं में पानी की आपूर्ति आधी रह गई है। उन्होंने कहा कि पीज-महाराजा क्षेत्र के लिए उठाऊ पेयजल को जल्द शुरू करने की योजना है, इससे क्षेत्र में दिक्कतें नहीं आएंगी।

न्यूनतम तापमान(डिग्री सेल्सियस में)
शिमला 6.4
सुंदरनगर -1.2
बरठीं -1.5
कल्पा -1.0
धर्मशाला 6.2
ऊना 2.6
नाहन 7.3
पालमपुर 3.0
सोलन 1.0
कांगड़ा 3.8
मंडी -0.9
चंबा 0.9
डलहौजी 5.9
जुब्बड़हट्टी 6.1
कुफरी 4.6
कुकुमसेरी -8.6
नारकंडा 1.8
रिकांगपिओ 1.9
सेऊबाग -1.5
धौलाकुआं 4.0
बरठीं 1.9
समदो -6.5
पांवटा साहिब 8.0
देहरागोपीपुर 8.0
अधिकतम तापमान(डिग्री सेल्सियस में)
डलहौजी 16.8
चंबा 18.9
कुकुमसेरी 10.0
केलांग 7.0
भरमौर 16.6
धर्मशाला 22.0
कांगड़ा 22.2
सेऊबाग 17.6
भुंतर 18.1
समदो 9.1
मंडी 18.1
बरठीं 20.7
सुंदरनगर 23.0
कल्पा 11.0
रिकांगपिओ 14.7
शिमला 16.4
कुफरी 11.5
धौलाकुआं 21.5

Back to top button