Latest

Tax free Gratuity: अब से आपको 25 लाख रुपये तक की अमाउंट वाली ग्रेच्युटी पर कोई भी टैक्स नहीं देना होगा, जानिए क्या होती है ग्रेच्युटी?

Tax free Gratuity: अब से आपको 25 लाख रुपये तक की अमाउंट वाली ग्रेच्युटी पर कोई भी टैक्स नहीं देना होगा, जानिए क्या होती है ग्रेच्युटी?

Tax free Gratuity: अब से आपको 25 लाख रुपये तक की अमाउंट वाली ग्रेच्युटी पर कोई भी टैक्स नहीं देना होगा, ज्यादा फायदा मिलेगा,  डीए और एचआरए बढ़ाने के साथ ही केंद्र सरकार ने ग्रेच्युटी के नियमों (Gratuity) में भी बड़ा बदलाव कर दिया है. सरकार ने कर्मचारियों को मिलने वाली ग्रेच्युटी की लिमिट में इजाफा कर दिया है

Gratuity tax exemption limit

केंद्रीय कैबिनेट ने ग्रेच्युटी की टैक्स फ्री लिमिट (Gratuity tax exemption limit) में इजाफा कर दिया है. पहले ये लिमिट 20 लाख रुपये थी और अब इसको बढ़ाकर 25 लाख रुपये कर दिया गया है.

सरकार की तरफ से किए गए इस बदलाव का मतलब यह है कि अब से आपको 25 लाख रुपये तक की अमाउंट वाली ग्रेच्युटी पर कोई भी टैक्स (Tax free Gratuity) नहीं देना होगा.

वहीं, इस बदलाव से पहले तक टैक्स फ्री ग्रेच्युटी की लिमिट 20 लाख रुपये थी. सरकार ने साल 2019 में टैक्स फ्री ग्रेच्युटी की लिमिट 10 लाख को बढ़ाकर 20 लाख कर दिया था.

 

कब मिलती है ग्रेच्युटी?

अगर आप किसी भी कंपनी में 5 साल तक लगातार नौकरी करते हैं तो आपको उस कंपनी की तरफ से ग्रेच्युटी (Gratuity) मिलती है.

नए फॉर्मूले के तहत आप 5 साल की जगह अगर किसी कंपनी में 1 साल रुकते हैं तो वहां भी ग्रेच्युटी के हकदार हैं. फिलहाल इस नए फॉर्मूले पर काम किया जा सकता है. सरकार जल्द इस पर भी फैसला ले सकती है. अगर ये फैसला आ जाता है तो प्राइवेट और सरकारी दोनों ही कर्मचारियों को बड़ा फायदा होगा.

क्या होती है ग्रेच्युटी?

ग्रेच्युटी कंपनी की तरफ से कर्मचारी को मिलती है. ग्रेच्युटी का पैसा पाने के लिए कर्मचारी को कम से कम 5 साल तक एक ही संस्थान में काम करना होता है. आमतौर पर यह पैसा तब मिलता है जब कर्मचारी नौकरी छोड़ता है या फिर वह रिटायर होता है. अगर कर्मचारी के साथ किसी तरह की दुर्घटना हो जाती है तो उस स्थिति में नॉमिनी को ग्रेच्युटी मिलती है.

कैसे होती है ग्रेच्युटी की कैलकुलेशन?

कुल ग्रेच्युटी की रकम = (अंतिम सैलरी) x (15/26) x (कंपनी में कितने साल काम किया).

Back to top button