फिटनेस फंडा

बच्चों में भी बढ़ रही है शुगर की बीमारी, जानिए बच्चों में होने वाली diabetes का कारण और बचाव के तरीके…

diabetes : नमस्कार दोस्तो स्वागत है आपका हमारे एक और न्यू आर्टिकल मे तो चलिए शुरू करते है

Causes of diabetes In Children: सेडेंटरी लाइफस्टाइल और गलत खानपान के कारण दुनिया भर में डायबिटीज के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. ब्लड में ग्लूकोज लेवल की मात्रा ज्यादा होने के कारण लोग इस बीमारी का शिकार होते हैं. डायबिटीज के कारण कई और बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है. चिंता की बात यह है कि व्यस्कों के बाद अब बच्चे भी तेजी से इस गंभीर बीमारी का शिकार हो रहे हैं. आंकड़े की बात करें तो 0 से 19 साल के आयु वर्ग के 1.2 मिलियन बच्चे दुनियाभर में डायबिटीज से ग्रसित है. बच्चों में बढ़ते डायबिटीज के दर को लेकर एनडीटीवी ने एशियन इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के एंडोक्राइनोलॉजी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ. संदीप खरब से इस बारे में बातचीत की. उन्होंने मोटापे को बच्चों में डायबिटीज का सबसे कारण बताया.

बच्चों में डायबिटीज के कारण और बचाव (Causes And Prevention of Diabetes In Children)
1. मोटापा
डॉ. संदीप खरब मोटापा को बच्चों में डायबिटीज का सबसे बड़ा कारण मानते हैं. उन्होंने कहा, “आठ, दस और बारह साल के बच्चे डायबिटीज के साथ आते हैं. आज से दस साल पहले महीने में एक ऐसा केस आता था लेकिन आजकल हफ्ते में दो-तीन बच्चे आते हैं. बच्चों में डायबिटीज का मुख्य कारण जो मुझे समझ में आता है वह मोटापा ही है.” डॉक्टर ने बताया कि जो बच्चे डायबिटीज के साथ आते हैं उनमें से ज्यादातर ओवर वेट रहते हैं.
बच्चों को डायबिटीज से बचाने के लिए वजन को नियंत्रण में रखना बहुत जरूरी है. डॉ. संदीप का कहना है कि आजकल मां-बाप को लगता है कि अगर उनका बच्चा मोटा है तो वह हेल्दी है, जबकि मोटापे की वजह से डायबिटीज जैसी कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.

Physical activity में कमी
सेडेंटरी लाइफस्टाइल की वजह से भी बच्चे डायबिटीज का शिकार हो रहे हैं. बच्चे अब पहले की तरह खेल-कूद जैसी एक्टिविटी में शामिल नहीं होते हैं. न्यूक्लियर फैमिली और पढ़ाई के बोझ के चलते उन्हें खेल-कूद के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाता है. डॉ. संदीप खरब का कहना है कि कोरोना काल के बाद बच्चों के लाइफस्टाइल में काफी बदलाव आ गया है, अब उनका ज्यादातर समय घर में ही बीतता है. बाहर खेलने की जगह बच्चे घर पर ही मोबाइल फोन में गेम खेलते हैं.

एक ही जगह बैठे रहने के कारण बच्चों में मोटापे के साथ-साथ कई अन्य बीमारियों का खतरा भी बढ़ जाता है. इसलिए बच्चों को फिजिकली एक्टिव रखना बेहद जरूरी है. साइकलिंग, स्विमिंग और खुली जगह में खेलने-कूदने के लिए बच्चों को प्रोत्साहित करें.

READ MORE : http://इन 8 vegetables को हमेशा उबालकर ही खाना चाहिए, वर्ना नष्ट हो जाते हैं सभी पोषक तत्व, जानिए list….

  गलत खानपान
गलत खानपान या साफ तौर पर कहें तो जंक फूड के बढ़ते इनटेक के चलते भी दुनिया भर में बच्चे डायबिटीज का शिकार हो रहे हैं. डॉ. संदीप खड़ब कहते हैं, “जंक फूड का मतलब ये नहीं है कि आप जो बाहर से खा रहे हैं वही जंक फूड है. कोई भी चीज जिसमें न्यूट्रिशन कम है और कैलोरी ज्यादा है वह जंक फूड है.” पूरी, पकौड़े और मिल्क शेक को भी डॉक्टर ने बच्चों के लिए अनहेल्दी बताया है.
बच्चों को डायबिटीज से बचाने के लिए संतुलित और हाई फाइबर फूड दें. हरी सब्जियों और फलों को डाइट में शामिल करें. इस तरह से उन्हें न सिर्फ डायबिटीज से बचाया जा सकता है बल्कि बच्चों के ओवर ऑल हेल्थ को बेहतर किया जा सकता है.

Back to top button