Business

झोपड़ीं से शुरू करी मशरूम की खेती अब बन चुके है किसानों की मिशाल , कमा रहे लाखों रूपए

झोपड़ीं से शुरू करी मशरूम की खेती अब बन चुके है किसानों की मिशाल , कमा रहे लाखों रूपए आज के समय पर भारतीय कृषि विकास में कई प्रकार के बदलाव सामने आ रहे हैं जहां पर किस पहले परंपरागत खेती करता था वहीं अब वैज्ञानिक खेती को अपना लिया है इसी के साथ इस खेती से किसानों का काफी ज्यादा विकास भी हुआ है इसी के साथ गांव से लेकर शहर तक किस वैज्ञानिक खेती तकनीकी को अपना रहे हैं और अच्छा मुनाफा कमा रहे हैं.

This read:- इस दिन हो रहा Motorola Edge 50 Pro बाजार में लांच, जाने क्या है शुरुआती कीमत

क्या है कहानी ?

यह कहानी अवतार सिंह की है जिन्होंने बताया वह पहले भारतीय कृषि के क्षेत्र में अपना कदम जमाने के लिए परंपरागत कृषि के विकल्प को अपनाया था इसके पश्चात कुछ किसानों द्वारा नए अवसर सुरक्षित किए गए इसी के साथ उन्होंने आर्थिक स्थिति को सुधारते हुए कृषि के प्रति उनके दृष्टिकोण को बदला और अब वह सभी किसानों के लिए एक प्रेरणा बन चुके हैं।

झोपड़ीं से शुरू करी मशरूम की खेती अब बन चुके है किसानों की मिशाल , कमा रहे लाखों रूपए

कैसे शुरू करी ?

अवतार सिंह जी द्वारा मशरूम की खेती को एक छोटी सी झोपड़ी में शुरू किया गया था जिसके पश्चात वह दो एकड़ के वातानुकूलित फार्मा तक पहुंच चुका है इसी के साथ उन्होंने इस यात्रा में अपने ऊपरी में धान और गेहूं जैसी परंपरागत फसलों को छोड़कर फसलों की खेती को चुनाव इसी के साथ आज के समय पर 32 लोगों को रोजगार दिया जाता है इस खेती के अंतर्गत और यह सामाजिक प्रभाव को भी दिखता है।

this read:- IPhone 14 Holi Offer : मात्र इतने कम कीमत में मिल रहा I Phone 14 , जानें क्या है बाजार में नई कीमत

वैज्ञानिक खेती क्यों है खाश ?

परंपरागत खेती में कई प्रकार की बीमारियां एवं कई प्रकार के नुकसान का सामना करना पड़ता है ऐसे में मशरूम की खेती को वैज्ञानिक तरीके से किया जाए तो इस पर किसी प्रकार की हानि होने की संभावना बहुत कम होती है ऐसे में अवतार सिंह ने भी यही किया उन्होंने परंपरागत खेती को छोड़कर वैज्ञानिक खेती को अपनाया और वह आज लाखों रुपए कमाते हैं।

Back to top button