Latest

Master Plan Ready For MP Board Examination: संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर जैमर रोकेंगे मोबाइल उपयोग, माशिमं का मास्टर प्लान तैयार

Master Plan Ready For MP Board Examination: संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर जैमर रोकेंगे मोबाइल उपयोग, माशिमं का मास्टर प्लान तैयार कर लि‍या है  । बोर्ड परीक्षाओं में तकनीक के उपयोग से नकल और पेपर लीक जैसी घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए इस बार जैमर का उपयोग होगा। माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने परीक्षा केंद्रों पर मोबाइल पूरी तरह प्रतिबंधित तो पहले से ही कर दिया है, अब प्रदेश के अति संवेदनशील और संवेदनशील परीक्षा केंद्रों पर जैमर लगाकर मोबाइल के उपयोग की किसी भी तरह की आशंका को रोकने का निर्णय लिया है। अधिकारी इस संबंध में जैमर का उपयोग करने वाले प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड (पीईबी) और निजी संस्थानों से चर्चा कर उपयोग की रणनीति बना रहे हैं।

 

केंद्राध्यक्ष को भी मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं

बता दें, कि माशिमं की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाएं पांच फरवरी से शुरू हो रही हैं। प्रश्नपत्र किसी भी तरीके से बहुप्रसारित न हो पाएं, इसलिए इस बार कर्मचारी से लेकर केंद्राध्यक्ष तक को मोबाइल ले जाने की अनुमति नहीं होगी। इस बार परीक्षा की पूरी निगरानी आनलाइन किए जाने की व्यवस्था बनाई जा रही है।

इसके लिए मंडल मुख्यालय में कंट्रोल रूम बनाया जाएगा। साथ ही प्रत्येक जिले का एक-एक प्रभारी भी बनाया गया है, जो अपने जिले के केंद्रों की निगरानी करेगा। मंडल ने प्रदेश में 3850 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इसमें से करीब 600 संवदेनशील और अति संवेदनशील केंद्र हैं। बता दें कि 10वीं व 12वीं की परीक्षा में करीब 17 लाख विद्यार्थी शामिल हो रहे हैं।

 

जहां सीसीटीवी कैमरे होंगे, वहीं बनेंगे केंद्र

हर साल संवेदनशील व अतिसंवेदनशील केंद्रों पर नकल की सबसे ज्यादा शिकायतें मिलती हैं। इन्हीं केंद्रों से प्रश्नपत्रों के बहुप्रसारित होने की आशंका भी रहती है। लिहाजा इस बार उन्हीं केंद्रों को परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा, जहां पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। सरकारी स्कूलों में बने परीक्षा केंद्रों पर मंडल की तरफ से पांच-पांच सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।

 

कलेक्टर प्रतिनिधि का होना अनिवार्य

समन्वयक संस्था से थानों व परीक्षा केंद्रों तक प्रश्नपत्र पहुंचाने की व्यवस्था पहले की ही तरह रहेगी। इसके अलावा थानों से केंद्राध्यक्ष व कलेक्टर प्रतिनिधि द्वारा संयुक्त रूप से प्रश्नपत्रों को निकाल जाने की व्यवस्था है। अगर कलेक्टर प्रतिनिधि इस दौरान नहीं पहुंचते हैं तो उनके विरुद्ध कलेक्टर के माध्यम से सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पिछले साल मोबाइल के कारण ही प्रश्नपत्रों के बहुप्रसारित होने का कारण सामने आया था। इस कारण इस बार मोबाइल के साथ सभी इलेक्ट्रानिक डिवाइस प्रतिबंधित रहेंगी। पूरी व्यवस्था की निगरानी आनलाइन होगी।

केडी त्रिपाठी, सचिव, माशिमं

Back to top button