कृषि समाचार

Kheti News : बंजर जमीन भी उगाये सोना , किसान बंजर जमींन पर करे इन फसल की खेती , होगा लाखो का मुनाफा

Kheti News : बंजर जमीन भी उगाये सोना , किसान बंजर जमींन पर करे इन फसल की खेती , होगा लाखो का मुनाफा प्राचीन काल से हमारे भारत देश में विभिन्न परंपरागत तरीके से फसलों की खेती करी जाती है ऐसे में देश के लिए जलवायु किसानों के लिए अलग-अलग होती है और पारंपरिक तरीकों से खेती करके उत्पादन में वृद्धि लाई जा सकती है।

जलवायु परिवर्तन के कारण किसान गेहूं चावल जैसी खाद्यान्न फसलों की खेती कई स्थानों पर करते हैं ऐसे में एक महत्वपूर्ण खेती मिलेट की खेती होती है इसकी खेती करने के लिए सरकार अपने-अपने किसने की मदद कर रही है जिसे कम लागत में मोटी कमाई के लिए महुआ की खेती भी कर सकते हैं और यह पौष्टिक और स्वादिष्ट भी होता है ।

PM Kisan के बाद एक और शानदार गिफ्ट, सरकार ने किसानों के खाते में डाले  1090.76 करोड़ | Rythu Bharosa PM Kisan Yojana CM Jagan Mohan Reddy released  Rs 1090.76 crore | TV9 Bharatvarsh

इस प्रकार की भूमि में आसानी से कर सकते हैं इसकी खेती

आज हम महुआ को फिंगर मिलेट्स के नाम से भी जानते हैं यदि किसान महुआ की खेती करता है तो वह मालामाल बन सकता है इसकी खेती बहुत ही कम खर्चे वाली खेती होती है आप इसे बंजर भूमि पर भी उग सकते हैं इसमें आपको सिंचाई की आवश्यकता नहीं पड़ती और आपको इसमें रख रखाव के लिए ज्यादा पैसों की आवश्यकता नहीं होती है.

Kheti News : बंजर जमीन भी उगाये सोना , किसान बंजर जमींन पर करे इन फसल की खेती , होगा लाखो का मुनाफा

किसानों को खेती से मिल सकती है इतनी कमाई

इसकी खेती सिंचित एवं असिंचित दोनों स्थानों पर की जा सकती है आप इसकी खेती ऊंचे क्षेत्र वाले बंजर जमीन पर भी कर सकते हैं महुआ की खेती के लिए किसी विशेषत प्रकार की बहुत अच्छी मिट्टी की आवश्यकता नहीं होती। यह शूज का मौसम में उगाई जाने वाली फसल है और यह लगभग 3 महीने में पूर्ण रूप से तैयार हो जाती है।

बंजर जमीन पर खेती, लाखों की कमाई...राजस्थान के किसानों के लिए प्रेरणा बना  ये रिटायर्ड फौजी - rajasthan retired fauji grows trees and plants on barren  land becomes role model for farmers

खेती के लिए किसान यहां से ले सकते है जानकारी और सलाह

आपको इसी खेती करने के लिए अधिक उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती आपको इस पर किसी भी कीटनाशक का प्रयोग नहीं करना पड़ता इसी के साथ यह सिंचाई के अनुकूल होती है यह प्राकृतिक रूप से उगता और तैयार होता है इसके उत्पादन पर ज्यादा खर्चा नहीं होता फसल को अच्छे से सूख जाने के पश्चात मशीन की सहायता से गहराई के बाद इसके बीच अलग कर लिए जाते हैं और इस धूप में अच्छी तरह सुखाकर भंडरीत कर लिया जाता है।

यह भी पढियें- कटनी की एनकेजे पुलिस ने किया 250 किलो महुआ लाहन नष्ट

जवाहर बाजार राजी कंगनी को दो कुटकी चना जैसे कुछ मुख्य अनाज आप बंजर भूमि पर नहीं कर सकते लेकिन आप महुआ की खेती बंजर भूमि पर आसानी से कर सकते हैं इसके लिए आपको मिलेट की खेती करना होगा जो की सरकार की ओर से आर्थिक सहायता भी करी जाती है और कृषि क्षेत्र के अनुदान में इसका महत्वपूर्ण योगदान है।

Back to top button