Health

शरीर में दिखने लगें ये संकेत, तब आपको जरूर करना चाहिए उपवास, यहां हैं फास्टिंग के फायदे

शरीर में दिखने लगें ये संकेत, तब आपको जरूर करना चाहिए उपवास, यहां हैं फास्टिंग के फायदे

सिडेंटरी लाइफस्टाइल और ओवरइटिंग की आदत मेटाबॉलिज्म को स्लो बना देती है। इससे शरीर को न केवल वेटगेन बल्कि कई अन्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। अधिक मात्रा में खाने से शरीर में कैलोरीज़ जमा होने होने लगती है और वर्कआउट (workout) न करने के चलते डाइजेस्टिव सिस्टम पर उसका असर दिखने लगता है। ऐसे में अधिकतर लोग डाइजेस्टिव प्रॉबलम्स (Digestive problem) की चपेट में आ जाते हैं और शरीर फास्टिंग का संकेत देने लगता है। जानते हैं कि शरीर फास्टिंग के लिए कौन से संकेत देता है और इसके फायदे

यह भी पढ़े :-  दिनचर्या में शामिल करे स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज, दूर होगी मॉर्निंग लेजीनेस और स्टिफनेस

क्या हैं फास्टिंग के फायदे (Benefits of fasting)

  1. वेटलॉस में मददगार (Weight loss)
    एनआईएच की रिसर्च के अनुसार फास्टिंग करने से शरीर में किटोसिस का उत्पादन बढ़ने लगता है। इसकी मदद से शरीर में पर्याप्त ऊर्जा के लिए जमा कैलोरीज़ को बर्न करने में मदद करता है। इससे वेटलॉस में मदद मिलती है।

शरीर में दिखने लगें ये संकेत, तब आपको जरूर करना चाहिए उपवास, यहां हैं फास्टिंग के फायदे

2. मेटाबॉलिज्म को करे बूस्ट (Boost metabolism)

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार दिनभर उपवास करने से वज़न को 9 फीसदी तक कम किया जा सकता है। वहीं 12 से 24 सप्ताह के भीतर बॉडी फैट में कमी आने लगती है। फास्टिंग से कैलोरी जमा होने की समस्या दूर होती है और मेटाबॉलिज्म बूस्ट होने लगता है। फासि्ंटंग में वॉटर फास्टिंग, जूस फास्टिंग और कैलोरी रिस्टरीक्शन से मदद ली जा सकती है।

यह भी पढ़े :- चावल एक पौष्टिक सुपरफूड है, लेकिन इन 3 स्थितियों में अच्छा नहीं है ज्यादा चावल खाना, आओ जानते है इसके बारे में

3 शरीर को करे डिटॉक्स (Body detoxification)

उपवास की मदद से शरीर में मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को डिटॉक्स करने के लिए एज़ाइम में वृद्धि होने लगती है। इससे शरीर में पाए जाने वाले विषैले पदार्थों से मुक्ति मिल जाती है और कब्ज व अपच का खतरा कम हो जाता है।

Back to top button