FEATUREDमध्यप्रदेशव्यापार

Galla Mandi Bhav: गेहूं-चना के शुल्क में कटौती कर सकती है सरकार, कीमतों में मंदी

Galla Mandi Bhav: गेहूं-चना के शुल्क में कटौती कर सकती है सरकार, कीमतों में मंदी की संभावना है। एनएसओ के ताजा डाटा के अनुसार देश में नवंबर की महंगाई दर सबसे ज्यादा रही अक्टूबर में जहां महंगाई की दर 4.87 प्रतिशत थी, वहीं नवंबर में दर 5.53 प्रतिशत रही। खाद्य वस्तुओं की महंगाई का योगदान इसमें सबसे ज्यादा है। ऐसे में सकार खाद्य मुद्रास्फीति पर लगाम लगाने के लिए नए कदम उठा सकती है। सूत्रों के अनुसार अब सरकार घरेलू आपूर्ति को बढ़ावा देने और कीमतों में बढ़ोतरी को रोकने के लिए गेहूं और चना पर आयात शुल्क में कटौती कर सकती है।

सूत्रों ने अनुसार सरकार गेहूं की कीमतों पर कड़ी नजर रख रही है और कीमतों को नीचे लाने के लिए सभी संभावित उपायों पर विचार किया जा रहा है। इधर, खुले बाजारों में एफसीआई द्वारा गेहूं की बिक्री किए जाने के साथ ही सरकार आटा भी बेच रही है, जिससे गेहूं के दामों में एकतरफा मंदी की स्थिति बनी हुई है। बुधवार को इंदौर में गेहूं मिल क्वालिटी के दाम घटकर 2450-2500 मालवराज 2400-2500 मालवराज बेस्ट 2500-2550 रुपये क्विंटल रह गए।

अगर सरकार आयात शुल्क में कटौती करती है तो खुले बाजारों में गेहूं के दामों में और गिरावट आ सकती है लेकिन भविष्य लंबी मंदी का नहीं है क्योंकि पाइपलाइन खाली है। व्यापारियों का कहना है कि सरकार को गेहूं पर आयात शुल्क कम करके निजी खिलाड़ियों को गेहूं खरीदने की अनुमति देनी चाहिए क्योंकि वैश्विक कीमतें नरम हो गई हैं। हाल ही में सरकार द्वारा मटर आयात शुल्क समाप्त कर दिए जाने से चने में लेवाली की तुलना में बिकवाल ज्यादा नजर आ रहे हैं। इसके चलते चने के दामों में एकतरफा मंदी की स्थिति बनी हुई है।

मसूर व तुवर दाल में भी मंदी

बुधवार को इंदौर में चना कांटा और घटकर 5800-5850 विशाल 5700-5725 डंकी 5300-5400 रुपये प्रति क्विंटल के निम्म स्तर पर पहुंच गए है। ऐसे में सरकार चने के आयात शुल्क में कटौती कर देती है तो चने के दामों में और मंदी आ सकती है। दूसरी ओर मसूर और तुवर में भी मिलों की लेवाली बेहद सुस्त होने से भाव धीरे-धीरे नीचे की ओर जा रहे है। मसूर घटकर 5900 तुवर महाराष्ट्र सफेद घटकर 10200-10500 कर्नाटक 10400-10600 निमाड़ी तुअर 8500-9500 रुपये प्रति क्विंटल रह गई जबकि तुअर का स्टाक काफी कमजोर बताया जा रहा है। ऐसे में ज्यादा मंदी की गुंजाइश कम हैं।

दूसरी ओर काबुली चने में नीचे दामों पर लेवाली आने और बिकवाल पीछे हटने का कारण भाव में पुन: तेजी देखने को मिली है। बुधवार को काबुली चना 400 रुपये प्रति क्विंटल तक उछल गया। अन्य दाल-दलहन के दामों में स्थिरता रही। कंटेनर में डॉलर चना 40/42 15500, 42/44 15300, 44/46 15100, 58/60 13600, 60/62 13500, 62/64 13400 रु. क्विंटल रह गया।

दलहन- चना कांटा 5800-5850 विशाल 5700-5725 डंकी 5300-5400 मसूर 5900 तुअर महाराष्ट्र सफेद 10200-10500 कर्नाटक 10400-10600 निमाड़ी तुअर 8500-9500 मूंग 8500-8600 बारिश का मूंग नया 9000-9900 एवरेज 7000-8000 उड़द बेस्ट 8200-8700 मीडियम 7000-8000 हलका उड़द 3000-5000 गेहूं मिल क्वालिटी 2450-2500 मालवराज 2400-2500 मालवराज बेस्ट 2500-2550 रुपये क्विंटल।

दालों के दाम- चना दाल 7950-8050 मीडियम 8150-8250 बेस्ट 8350-8450 मसूर दाल 7500-7600 बेस्ट 7700-7800 मूंग दाल 10000-10100 बेस्ट 10200-10300 मूंग मोगर 10600-10700 बेस्ट 10800-10900 तुवर दाल 12600-12700 मीडियम 13500-13600 बेस्ट 14200-1440 ए. बेस्ट 15300- 15400 ब्रांडेड तुवर दाल 15800 उड़द दाल 10600-10700 बेस्ट 10800-10900 उड़द मोगर 11200-11300 बेस्ट 11400-11500 रुपये।

इंदौर चावल के दाम: दयालदास अजीतकुमार छावनी के अनुसार बासमती (921) 11500-125500, तिबार 9500-10000, बासमती दुबार पोनिया 8500-9000, मिनी दुबार 7500-8000, मोगरा 4200-6500, बासमती सेला 7000-9500 कालीमूंछ डिनरकिंग 8500, राजभोग 7500, दुबराज 4500-5000, परमल 3200-3400, हंसा सेला 3400-3600, हंसा सफेद 2800-3000, पोहा 4400-4800 रु. क्विंटल।

Back to top button