#MP Vidhansabha ElectionsFEATUREDLatestPoliticsमध्यप्रदेश

Election Update मतदान प्रतिशत से गणित निकालने वालों को 4 जून तक मिला काम, आत्ममुग्ध दावों से बनाएंगे गवर्मेंट

Election Update मतदान प्रतिशत से गणित निकालने वालों को 4 जून तक मिला काम, अपने अपने दावों से बनाएंगे गवर्मेंट

भोपाल। राजनीतिक पंडितों के लिये अगले 4 जून तक अपने अपने गणित लगाने चर्चा का विषय या कहें काम मिल गया है। यह चर्चा का विषय मतदान प्रतिशत को लेकर है। कतिथ जानकर इसे लेकर सरकार के खिलाफ मानने पूरे जोश से मैदान में डटे हैं। वहीं कुछ इस प्रतिशत पर बेवजह के गणित से दूर इत्मीनान से हैं। अब 4 जून को पता चल जाएगा किसके गणित में कितना दम है। असल बात यह है कि मतदाताओं ने अपना फैसला evm में कैद कर दिया जिस पर सिर्फ आत्ममुग्ध कलम चाहे जितनी चला लो। 

कटे फ़टे नोट एक्सचेंज करने वाले व्यापारी के घर छापा, भारी मात्रा में मिली नकदी, हवाला से जुड़े होने का शक

images 1

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों पर चार चरणों में हुआ मतदान 66.87 प्रतिशत रहा। यह 2019 के लोकसभा चुनाव की तुलना में औसत सवा चार प्रतिशत कम रहा। चौथे चरण में मालवा निमाड़ की आठ सीटों पर औसत मतदान 72.02 प्रतिशत रहा, जो चारों चरणों में सर्वाधिक है।

Share Market Crash: शेयर बाजार हुआ क्रैश, टाटा मोटर्स, टाटा स्टील सहित इन शेयर्स के 30 मिनट में डूबे 4.36 लाख करोड़, अब निवेशकों की टूटी कमर

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने देर रात मतदान के आंकड़ों को अंतिम रूप दे दिया। प्रदेश में कुल 69.39 पुरुष और 64.24 महिला मतदाताओं ने मतदान किया। वहीं, चौथे चरण के चुनाव को देखा जाए 75.10 प्रतिशत पुरुष और 68.96 प्रतिशत महिलाओं ने मताधिकार का उपयोग किया। देवास में 75.48, उज्जैन में 73.82, मंदसौर में 75.27, रतलाम में 72.94, धार में 72.76 और खंडवा में 71.72 प्रतिशत मतदान रहा।

खरगोन लोकसभा क्षेत्र में सर्वाधिक 76.03 प्रतिशत निर्वाचकों ने अपने मताधिकार का उपयोग किया तो 61.67 प्रतिशत के साथ इंदौर संसदीय क्षेत्र सबसे पीछे रहा। इनमें अभी डाक मतपत्र शामिल नहीं हैं। दरअसल, मतगणना से एक घंटे पूर्व तक प्राप्त होने डाक मतपत्रों का गणना में शामिल किया जाता है। प्रदेश के 5,63,40,064 मतदाताओं में से 66.87 प्रतिशत ने मतदान किया।

इंदौर में सर्वाधिक 7.57 प्रतिशत मतदान घटा

मालवा निमाड़ की आठ सीटों में 2019 की तुलना में सर्वाधिक 7.57 प्रतिशत की कमी इंदौर संसदीय क्षेत्र में आई। जबकि, देवास में 4, उज्जैन में 1.53, मंदसौर में 2.55, रतलाम में 2.57, धार में 1.28, खरगोन में 1.68 और खंडवा में 5.32 प्रतिशत मतदान कम रहा।

छिंदवाड़ा में सर्वाधिक तो रीवा सीट पर सबसे कम रहा मतदान

प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में सर्वाधिक 79.83 प्रतिशत मतदान छिंदवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में रहा। इसके बाद राजगढ़ में 76.04, खरगोन में 76.03, देवास में 75.48 और मंदसौर में 75.27 प्रतिशत मतदाताओं ने मताधिकार का उपयोग किया। वहीं, कम मतदान वाले क्षेत्रों को देखें तो रीवा में सबसे कम 49.43 प्रतिशत मतदान रहा। भिंड में 54.93, दमोह में 56.48, सीधी में 56.50 और खजुराहो संसदीय क्षेत्र में 56.97 प्रतिशत मतदान रहा।

सैलाना विधानसभा में सर्वाधिक तो देवतालाब में सबसे कम हुआ मतदान

प्रदेश की 230 विधानसभा सीटों के हिसाब से देखा जाए तो सर्वाधिक 84.37 प्रतिशत मतदान रतलाम लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले विधानसभा क्षेत्र सैलाना में हुआ। इसके बाद छिंदवाड़ा लोकसभा सीट में आने वाली अमरवाड़ा विधानसभा में 82.70, जुन्नारदेव में 81.86 और सौंसर में 80.84 और विदिशा संसदीय क्षेत्र में आने वाल बुधनी में 81.54 मतदान रहा। वहीं, सबसे कम मतदान रीवा लोकसभा क्षेत्र में आने वाली देवतालाब सीट पर 45.61 प्रतिशत रहा। इस क्षेत्र के त्योंथर में 45.80, सिरमौर में 47.15 और भिंड लोकसभा के अटेर विधानसभा में 47.74 प्रतिशत मतदान रहा।

Back to top button