Kutte Ka Janamdin: कुत्ते की बर्थडे पार्टी में शामिल हुए 250 लोग, काटा 11 किलो का केक, मालिक ने सुनाई दिल छूने वाली कहानी

Advertisements

Kutte Ka Janamdin मेरठ के गंगानगर में शुक्रवार को ट्रांसलेम कॉलेज में पालतू कुत्ते एलेक्स का जन्मदिन सुर्खियों में रहा। इस दौरान परिसर को गुब्बारे व फ्लैक्स बोर्ड लगाकर सजाया गया। सुबह ग्यारह बजे 11 किलो का केक काटा गया। बताया गया कि एलेक्स इस साल दो वर्ष का हो गया।

दरअसल, ट्रांसलेम कॉलेज में फार्मेसी विभाग के निदेशक डॉ. शमीम अहमद पशु प्रेमी हैं। इसी के चलते उन्होंने अपने सेंट बर्नार्ड प्रजाति के कुत्ते एलेक्स का जन्मदिन एक बड़े आयोजन के रूप मे मनाने का फैसला लिया। गुरुवार को कॉलेज में इसकी तैयारियां की गईं। बाकायदा कार्ड छपवाए गए और तकरीबन 250 लोगों को निमंत्रण दिया गया। इसके बाद शुक्रवार सुबह 11 बजे 11 किलो का केक काटा गया। वहीं कुत्ते के मालिक का कहना है कि उनके पास देश विदेश से इस आयोजन को लेकर कॉल आए तो मेरठ समेत आसपास के जिलों में भी यह आयोजन चर्चा का विषय बना हुआ है।

 

 

Kutte Ka Janamdin 500 लोगों को दिया था निमंत्रण

 

डॉ. शमीम अहमद ने बताया कि कॉलेज परिसर में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में पांच सौ से ज्यादा लोगों को आमंत्रित किया गया था। इसमें कॉलेज के छात्र, शिक्षक व शहर के सम्मानित लोगों सहित तकरीबन 250 लोग शामिल हुए।

 

Kutte Ka Janamdin शुक्रवार सुबह ग्यारह बजे काटा केक

 

शुक्रवार सुबह ग्यारह बजे के करीब एलेक्स का केक काटा गया। इसके लिए 11 किलो का विशेष केक तैयार किया गया था। केक काटने से पहले डॉ. शमीम ने हस्तिनापुर जाकर बंदर व आवारा पशुओं को खाद्य सामग्री खिलाई और फिर शाम को भी एलेक्स के साथ जाकर स्ट्रीट डॉग्स को भी खाना खिलाया।

 

Kutte Ka Janamdin केक काटने के बाद हुई दावत

 

केक काटने के बाद कार्यक्रम में पहुंचने वाले लोगों के लिए भोजन का इंतजाम रहा। विशेष बात यह है कि इस कार्यक्रम के लिए किसी वीआईपी शादी जैसा मैन्यू था।

डॉ. शमीम अहमद ने बताया कि उनके विभाग से हर साल सौ से ज्यादा बच्चे पढ़ाई पूरी करते हैं। उन्हें आठ अलग-अलग राज्यों में तैनात छात्रों द्वारा फोन किया गया। शमीम के भाई कनाडा व यूएसए में रहते हैं। उन्हें वहां से भी कॉल आए।

कार्यक्रम के लिए तैयार कराए गए आमंत्रण कार्ड पर स्वागत कर्ताओं में डॉ. शमीम अहमद, कौवे व कुत्ते का भी फोटो लगा था। दरसल, उनके पास एलेक्स से अलग एक रिम नाम का कुत्ता भी है। जिसे कई साल पहले उन्होंने सड़क से रेस्क्यू किया था। निक नाम का कौवा भी उनके पास है, जिसकी वह देखभाल करते हैं।

डॉ. शमीम अपने कुत्ते का जन्मदिन मनाकर बेहद खुश हैं। उनका कहना है कि कोविड के दौरान एलेक्स के मालिक ने से उसे छोड़ दिया था। मैं उसे घर ले आया और तब से यह मेरे पास ही है। उन्हेंने बताया कि उनके पास 18 आवारा कुत्ते हैं, जिनकी वह देखभाल करते हैं। बताया कि वह अपनी आय का 70% पशु कल्याण पर खर्च करते हैं।

Advertisements