Badwara :बड़वारा पुलिस की गिरफ्त में आया जमीन समतल करने के नाम पर किसानों से लाखों की ठगी करने वाला अंतरराज्यीय गिरोह

Advertisements

कटनी(विवेक शुक्ला)।बड़वारा पुलिस को जमीन समतल करने के नाम पर किसानो को ठगने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह के 8 सदस्यो को गिरफ्तार करने में सफलता मिली है।

8 सदस्य गिरफ्तार, 1 लाख 25 हजार रुपए नगद, इनोवा कार, मोटर सायकल मोबाइल फोन सहित 20 लाख का सामान जप्त

पत्रकारवार्ता में पुलिस अधीक्षक ने किया मामले का पर्दाफाश

गिरोह के कब्जे से एक इनोवा कार, दो मोटर सायकल, दो मोबाईल, 1लाख 25 हजार रूपए नगद भी बरामद किए गए हैं।

 

मामले का पर्दाफाश करने पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित पत्रकारवार्ता में पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन ने बताया कि बड़वारा थाना अंतर्गत ग्राम नायक सलैया निवासी 71 वर्षीय वृद्ध किसान अर्जुन सिंह कुशवाहा पिता कुबेर कुशवाहा द्वारा एक लिखित शिकायत बड़वारा पुलिस से की गई। जिसमें किसान अर्जुन सिंह ने बताया कि 27 दिसंबर 2021 की शाम लगभग 4 बजे उसके पास दो लोग मोटर सायकल से आये और जमीन समतल करने की बात करते हुए 10 हजार  रूपये एडवांस लेने के बाद रात में खेत में जेसीबी मशीन लेकर आये।

रात में खेत में जेसीबी मशीन चलाने के बाद सुबह एक अन्य व्यक्ति इंजीनियर बनकर आया और बोला कि तुम्हारी जमीन का समतली करण करीब 15 से 20 लाख रूपये होगा। हमारा मालिक आ रहा है जो खतरनाक है।

तुम हाथ पैर जोड़कर कम पैसे देकर निपट जाओ। इतने में इनोवा कार में सवार होकर 5 लोग आ गये। जिनमें से एक मालिक था जो आकर वृद्ध किसान से बोला कि तुम्हारी जमीन के काम का दस लाख रूपया हुआ है। जिस पर वृद्ध किसान ने कहा की रात भर जेसीबी चली है, इतना पैसा नहीं होता है, इतना पैसा मैं नही दे पाउंगा। इसके बाद किसान आरोपी धमकी देने लगे और उसके भांजे दिनेश मौर्य को धमका कर कार मै बैठा लिया व बोले की पैसा दो तभी तुम्हारे भांजे को छोड़ेगे नहीं तो इसकी हत्या कर देंगे। जिस पर किसान बोला कि मेरे खाता मे तीन लाख रूपये है। तब आरोपियों में से मालिक बने युवक ने दो व्यक्तियो को किसान के साथ एनकेजे बैंक भेजा। जहां उसके खाते से तीन लाख रूपये निकाल कर आरोपियों ने अपने पास रख लिए। इसके बाद किसान के भांजे दिनेश को छोड़ा गया व जाते समय किसी को यह बात किसी को बताने या रिपोर्ट करने पर पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी देते हुए सभी आरोपी रफूचक्कर हो गए। पुलिस ने किसान कि शिकायत पर अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध धारा 386, 420, 506, 34 का अपराध पंजीबद्ध कर उनकी तलाश शुरू की।

इसे भी पढ़ें-  Uddhav Thackeray Resigned: उद्धव ठाकरे ने किया सीएम पद से इस्तीफा देने का एलान, कहा- हमसे कोई शिवसेना छीन नहीं सकता

*इस तरह गिरफ्त में आये आरोपी*
पुलिस अधीक्षक श्री जैन ने बताया कि मामले की विवेचना के गठित पुलिस टीम को मुखबिरों से सूचना मिली की ग्राम सुड्डी में पानी की टंकी के पास कुछ बाहरी लोग आकर रूके हुये है। जिनके पास एक बड़ी कार व दो मोटर सायकल है। मुखबिरों से मिली सूचना की तस्दीक के लिए पुलिस टीम तत्काल मौके पर पहुंची और घेराबंदी करके वहां रूके 8 लोगो को हिरासत में लेकर थाने आई। जहां सभी से अलग-अलग कड़ाई से पूछताछ की गई। पूछताछ में सभी ने वृद्ध किसान अर्जुन सिंह के साथ ठगी की वारदात को अंजाम देना स्वीकार कर लिया।
*इनकी हुई गिरफ्तारी*
पूछताछ के बाद पुलिस ने वृद्ध किसान के साथ बल पूर्वक की गई ठगी के आरोप में सभी 8 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जिसमें उत्तरप्रदेश के हापुड़ जिला अंतर्गत गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र निवासी 46 वर्षीय मोवीन मुसलमान पिता इस्लाम मुसलमान, 55 वर्षीय अहसान पिता अख्तर अली, 50 वर्षीय मुन्ने खान पिता मुन्शी खान, 20 वर्षीय नौशाद खान पिता जमीन खान, 45 वर्षीय इसराइल खान पिता अमल खां, 60 वर्षीय अब्दुल रज्जाक पिता मोहब्बत खां, 50 वर्षीय ताहिर हुसैन पिता अमल खां व गाजियाबाद जिले के सिंहानी थाना क्षेत्र के ग्राम भूमखेड़ी निवासी 32 वर्षीय बिट्टू सिंह पिता सुभाष सिंह जाटव शामिल हैं।
नगदी व वाहन जप्त
आरोपियों की गिरफ्तारी के साथ ही पुलिस ने उनके कब्जे से 1 लाख 25 हजार रुपए नगद, एक ग्रे कलर की बिना नंबर की इनोवा कार, दो मोटर सायकल(जिनमे फर्जी नंबर प्लेट होना पाया गया), दो मोबाईल फोन, मीटर टेप व केल्कुलेटर सहित लगभग 20 लाख रुपये कीमती सामान जप्त किया गया है।
कई जिलों में कर चुके हैं वारदात
आरोपियो ने पूछताछ में पुलिस को बताया है कि वो प्रदेश के अन्य जिलो में इस प्रकार की वारदात को अंजाम देकर किसानों से रूपये हड़प चुके हैं। जिसके बाद पुलिस ने वायरलेस मेसेज के माध्यम से संबंधित थानों की पुलिस को भी आरोपियों के गिरफ्तार होने की सूचना दी है।
इस तरह करते थे वारदात
वारदात के तरीके के संबंध में आरोपियों ने पुलिस को बताया कि गिरोह के दो सदस्य मोटर सायकल से ग्रामीण इलाको मे फेरी लगाकर नवग्रह रत्न(पत्थर) बेचने का बहाना बनाकर रैकी करते हुए सेवानिवृत सीधे-साधे किसान कर्मचारी अधिकारी को चिन्हित कर खेतीहर जमीन को सस्ते रेट मे समतल करने का लालच देते थे। फिर जेसीबी मशीन किराये पर लेकर जमीन को समतल करने के दौरान गिरोह के मुखिया व अन्य सदस्य उन्ही में से एक बहरूपिया इंजीनियर तथा एक कंपनी का मालिक बनकर पीडि़त किसान को डरा धमकाकर भय कारित कर अनाप-शनाप लाखों रूपयो की मांग करता था। पीडि़त किसान द्वारा कार्य से कई गुना अधिक राशि देने का विरोध करने पर आरोपियो द्वारा भय कारित कर दबाब बनाकर पीडि़त को अपने गिरोह के सदस्यों के साथ बैंक ले जाकर खाता से रूपये निकलावकर रूपये लेकर भाग जाते थे।
इनकी रही भूमिका
पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोज केडिया के दिशा-निर्देश तथा उपपुलिस अधीक्षक(मुख्यालय) शालिनी परस्ते के मार्गदर्शन में गिरोह को गिरफ्तार करने में बड़वारा थाना प्रभारी अंकित मिश्रा, उपनिरीक्षक के.के.सिंह, सहायक उपनिरीक्षक राजेश बागरी, जयपाल सिंह, प्रधान आरक्षक लालजी यादव, नितिन जायसवाल, विजय चढ़ार, आरक्षक अभय यादव, राजकुमार, संतोष यादव, गिरवर सिंह, कालू सिंह, वकील यादव, नंदकिशोर पटेल की भूमिका रही। इसके अलावा आरोपियों की तलाश पतासाजी मे थाना बरही से सहायक उपनिरीक्षक सीताराम बागरी, आरक्षक अजीत व अवधेश का भी योगदान रहा।

Advertisements