Ujjain News:उज्जैन में शिप्रा के 19 किमी ग्रीन बेल्ट क्षेत्र में बनेगा साइकिल ट्रैक, योग ध्यान केंद्र

Advertisements

Ujjain News उज्जैन। मोक्षदायिनी शिप्रा नदी के शुद्धीकरण, संरक्षण, संवर्धन के लिए प्रशासन, नगर निगम और स्मार्ट सिटी कंपनी ने सशक्त प्रयास शुरू किया है। शिप्रा में कान्ह का गंदा पानी मिलने से रोकने को कच्चे बांध की परियोजना आकार ले चुकी है और अब शिप्रा के 18 घाटों वाले 19 किलोमीटर लंबे ग्रीन बेल्ट एरिया में साइकिल ट्रैक, तितली पार्क, ऊष्मायन केंद्र, कैम्पिंग साइट, वाच टावर और योग ध्यान केंद्र बनाने की योजना बनाई है। कंपनी के सीईओ अंशुल गुप्ता का कहना है कि साल के अंत तक परियोजना धरातल पर आकार ले लेगी। नदी पर अन्य सुविधाओं को भी जुटाया जाएगा। योजना पूरी करने में अनुमानित 30 करोड़ रुपयों की लागत आएगी।

Ujjain News मुख्यमंत्री ने दिए थे निर्देश

मालूम हो कि पिछले माह शिप्रा शुद्धीकरण को लेकर साधु-संतों द्वारा दिए धरने के बाद मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने शिप्रा का जल सदैव स्वच्छ एवं शुध्द रखने को पर्याप्त इंताम करने के निर्देश दिए थे। इसके पालन में पहले भोपाल से वरिष्ठ अधिकारियों का दल नदी का दौरा करने आया था और फिर बाद में महकमे के मंत्री तुलसी सिलावट और उज्जैन-दक्षिण से विधायक एवं प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डा. मोहन यादव ने सांसद अनिल फिरोजिया संग कान्ह पर बन रहे कच्चे बांध का मुआयना किया था। इसी दौरान कलेक्टर आशीष सिंह, स्मार्ट सिटी कंपनी के सीईओ अंशुल गुप्ता और जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता केजी सिंह ने क्षिप्रा शुद्धीकरण, संरक्षण एवं संवर्धन के लिए अब तक किये कार्य और भविष्य की कार्य योजना प्रस्तुत की है।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: 526 सेम्पल की रिपोर्ट में 81 नए पॉजिटिव केस
Ujjain News जल संसाधन विभाग के पास शिप्रा की शुद्धि के लिए तीन प्रोजेक्ट

जल संसाधन विभाग के पास शिप्रा की शुद्धि के लिए तीन प्रोजेक्ट हैं। पहला, पिपल्याराघो से कालियादेह महल तक खुली नहर (ओपन कैनाल) बनाना। दूसरा, त्रिवेणी के पास गोठड़ा में खान नदी पर पक्का स्टापडेम बनाना। तीसरा, सीवरेज वाटर ट्रीटमेंट प्लांट का। स्टापडेम प्रोजेक्ट 4.73 करोड़ रुपये का है। ओपन कैनाल प्रोजेक्ट 495 करोड़ रुपये का है। ट्रीटमेंट प्लांट का प्रोजेक्ट 300 करोड़ रुपये का है। कैनाल, राघोपिपल्या गांव में बहती खान नदी से कालियादेह पैलेस के डाउन स्ट्रीम तक 24 किलोमीटर लंबी और 85 फीट चौड़ी बनाने का प्रस्ताव है। ये प्रस्ताव शासन के पास स्वीकृति की प्रत्याशा में है।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: आज मिले 39 पॉजिटिव केस, रविवार को 326 लोगों के लिए गए थे सेम्पल
Ujjain News नर्मदा जल सप्लाई के लिए पाइपलाइन

संकट के वक़्‌त शहरवासियों को नर्मदा जल सीधे पाइपलाइन से सप्लाई करने को स्मार्ट सिटी कंपनी ने 29 लाख रुपये की कार्ययोजना बनाई है। रिपोर्ट के अनुसार नईखेड़ी में स्थित नर्मदा पाइपलाइन के आउटलेट से गंभीर बांध वाली पाइपलाइन को जोड़ा जाएगा। इस परियोजना पर 29 लाख रुपये खर्च होंगे। परियोजना पूरी होने से जल संकट होने पर नर्मदा का पानी उज्जैन वासियों को सप्लाई किया जा सकेगा।

शिप्रा शुद्धीकरण, संरक्षण, संवर्धन एवं सुंदरीकरण के लिए विस्तृत प्लान तैयार किया जा रहा है। डीपीआर को फाइनल रूप दिया जा रहा है। अंशुल गुप्ता, सीईओ, उज्जैन स्मार्ट सिटी कंपनी

Advertisements