Katni Breaking: कटनी पुलिस की बड़ी सफलता, कार से 9 लाख का गांजा बरामद

Advertisements

Katni Breaking कटनी। एनकेजे थाना अंतर्गत कटनी-शहडोल मार्ग के वनोपज जांच नाका के पास वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस ने कार में प्रतिबंधित गांजा की तस्करी का भंडाफोड़ किया है।

कार मालिक सहित दो गिरफ्तार, 89 किलो 500 ग्राम गांजा जप्त

कार से 9 लाख रूपए कीमती 89 किलो 500 ग्राम गांजा बरामद किया है। मामले में कार मालिक व चालक को गिरफ्तार कर नारकोटिक्स एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार जुहला बायपास में वन विभाग के नाका के पास वाहन चैकिंग की जा रही थी। उसीदौरान मौके पर एक ग्रे रंग की स्कोडा कार जिसमें हरियाणा राज्य की नम्बर प्लेट लगी हुई थी को वाहन चैकिग मे लगे स्टाफ  ने रोका जो नही रूकी एंव पुलिस को देख कर भागने का प्रयास किया।

जिसे पुलिस बल द्वारा सरसवाही मोड़ पर घेरा बंदी कर पकड़ा गया। वाहन चालक को वाहन से उतार कर नाम पता पूछने पर अपना नाम महेन्द्र कुमार पिता बहादुर आदिवासी उम्र 20 वर्ष निवासी देवगांव बस स्टैंड के पास थाना रीठी एंव ड्राइवर के बाजू वाली सीट पर बैठे युवक नाम पता पूछने पर अपना नाम दीपक राय पिता राम मिलन राय उम्र 26 वर्ष निवासी ग्राम पटोहा संतोषी माता मंदिर के पास थाना रीठी का रहने वाला बताया।

वाहन क्रमांक एच.आर.26बी-7256 के स्वामित्व के बारे मे जानकारी प्राप्त करने पर दीपक राय द्वारा उक्त वाहन उसका स्वंय का होना बताया। वाहन की सघनता से चैक करने पर वाहन में लगभग 89 किलो 500 ग्राम अवैध मादक पदार्थ गांजा कीमती लगभग 9 लाख मिला। जिसे आरोपी दीपक राय एंव महेंद्र कुमार के कब्जे से बरामद किया गया।

घटना में अवैध मादक पदार्थ गांजा की तस्करी में प्रयुक्त वाहन की कीमत 07 लाख रूपए बताई जा रही है। इस प्रकार कुल 16 लाख रूपये का मसुरका जप्त किया गया। आरोपियों के विरूद्ध धारा 8,20 एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

इनकी रही भूमिका

पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार जैन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनोज केडिया के दिशा निर्देश तथा नगर पुलिस अधीक्षक शशिकांत शुक्ला के मार्गदर्शन में कार से गांजा तस्करी का पर्दाफाश करने में एनकेजे थाना प्रभारी उपनिरीक्षक नीरज दुबे, सहायक उपनिरीक्षक दिनेश करोसिया, दिनेश सिह बघेल, सहपाल परतेती, प्रधान आरक्षक शशिकांत करोसिया, केवल उईके, आरक्षक दीपक तिवारी, चंद्रेश सिंह, विजय राणा, सायबर सेल आरक्षक प्रशांत, सतेंद्र की भूमिका रही। पुलिस अधीक्षक मामले का पर्दाफाश करने वाली टीम को नगद पुरुस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

Advertisements