Bakri Palana: आगरा में सामने आया हैरान करने वाला मामला, बकरी पालने पर सिपाही को नोटिस

Advertisements

Bakri Palana आगरा पुलिस लाइन स्थित आवास में रहने वाले एक सिपाही ने बकरियों का पालन शुरू कर दिया। इससे पड़ोसी परेशान हो गए। उन्होंने एसएसपी से शिकायत की। इसके बाद सिपाही को नोटिस दिया गया। बुधवार को सिपाही एसएसपी के पास पहुंचा।

सिपाही ने कहा कि उसे और बेटे को डेंगू हो गया था। किसी ने कहा था कि बकरी का दूध पीने से फायदा होगा। प्लेटलेट्स भी बढ़ जाएंगी। इसलिए बकरियों का पालन शुरू कर दिया। अब वो ठीक हैं। एसएसपी ने कहा कि सरकारी आवास में बकरी पालने की अनुमति नहीं दी जाएगी। अगर, वो छुट्टी चाहें तो ले सकते हैं। गंदगी होने से अन्य लोगों को परेशानी हो रही है।

डेंगू के जिले में दो नए मामले
डेंगू के आगरा में दो और नए मामले मिले हैं। एसएन मेडिकल कॉलेज और जिला अस्पताल के डेंगू वार्ड में इस समय कोई मरीज भर्ती नहीं है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. संजीव वर्मन ने बताया कि अब तक जिले में डेंगू के कुल 1154 मरीज मिल चुके हैं। वहीं, डेंगू से सात मरीजों की मौत हो चुकी है।

खूब बिका बकरी का दूध
आगरा सहित आस-पास के मंडल में डेंगू और वायरल बुखार होने के बाद बकरी के दूध की बिक्री जमकर हुई थी। लोगों ने एक हजार रुपये लीटर की दर से बरी का दूध खरीदा था। शहर से कई-कई किलोमीटर दूर तक लोग बकरी का दूध खरीदने गए थे।

चिकित्सक दे रहे नारियल पानी और कीवी की सलाह
हालांकि चिकित्सकों की सलाह नारियल पानी और कीवी के साथ दलिया आदि की थी। लेकिन लोगों ने बकरी के दूध का जमकर सेवन किया। यही कारण था कि दूध की कीमतें आसमान छूने लगी थीं।

लोगों ने बदल दिया था अपना कारोबार
ठेल लगाकर सब्जी और फेरी लगाकर बच्चों के कपड़े बेचकर परिवार का भरण पोषण करने वाले लोगों ने डेंगू और वायरल फीवर के बीच अपना कारोबार बदल दिया था। लोग ठेल लगाकर नारियल पानी बेचते नजर आए थे।

 

Advertisements