एसपी (पूर्वी) आशुतोष बागरी के मुताबिक प्रमोद और उसके बेटों राघव-रोहन के खिलाफ 15 दिन पूर्व तुकोगंज थाना में केस दर्ज हुआ था। फरारी के दौरान पुलिस कई बार आरोपितों के ठिकानों पर पहुंची लेकिन घर व रिश्तेदारों के यहां से भाग गए। गिरफ्तारी पर इनाम की भी घोषणा की लेकिन कोई जानकारी नहीं मिली। अब पुलिस ने उनकी संपत्ति कुर्क करने की कार्रवाई की है।

टीआइ कमलेश शर्मा के मुताबिक अभी पुलिस रजिस्ट्रार कार्यालय से आठ संपत्तियों की ब्यौरा तो मिल चुका है, जिसमें मेगापोलिस (एमजी रोड़) गुलमोहर व गुलमर्ग कंपनी में दो संपत्ती, मैग्मन टॉवर (जंजीरवाला चौराहा), स्कीम-134 में संपत्ती, बायपास पर बड़ा प्लाट शामिल है। उधर पुलिस ने आरोपितों की संपत्ति के संबंध में आयकर विभाग को भी रिपोर्ट भेजी है।

आरोग्य मेडिकल संचालक की भी तलाश

पुलिस ठगी के मामले में फरार आरोग्य मेडिकल संचालक केपी सिंह उर्फ कुंवर पुष्पेंद्रसिंह, उर्वशी भदौरिया और रुपेंद्र की भी तलाश कर रही है। आरोपितों पर विजय नगर, लसूड़िया, तुकोगंज और जबलपुर में करोड़ों की धोखाधड़ी के प्रकरण दर्ज है।