Bipin Rawat passed away: सीडीएस जनरल बिपिन रावत का निधन, कुन्नूर में हेलीकॉप्टर हुआ था हादसे का शिकार

Advertisements

Bipin Rawat passed away
तमिलनाडु में कुन्नूर के करीब सेना का हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया जिसमें 13 लोगों की मौत हुई है। रक्षा मंत्री संसद में कल इस घटना पर पूरी जानकारी देंगे।
भारतीय वायुसेना ने सीडीएस जनरल बिपिन रावत के निधन की पुष्टि कर दी है।

हादसे में उनकी पत्नी मधुलिका रावत की भी मृत्यु हो गई। तमिलनाडु के कुन्नूर में उनका हेलीकॉप्टर हादसे का शिकार हो गया था। इस हेलीकॉप्टर में जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका सहित कुल 14 लोग सवार थे। सभी के पार्थिव शरीर कल शाम तक दिल्ली पहुंचाए जाएंगे।

वायुसेना ने की पुष्टि
वायुसेना ने ट्वीट कर कहा कि हेलीकॉप्टर हादसे में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 सैन्यकर्मियों की मौत हो गई है।

राजनाथ ने जताया दुख
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी सीडीएस रावत के निधन पर शोक जताया। उन्होंने ट्वीट किया, तमिलनाडु में हेलीकॉप्टर हादसे में सीडीएस रावत और उनकी पत्नी व 11 अन्य अधिकारियों के निधन से बेहद दुखी हूं। उनका असमय निधन देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है।

 

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का चल रहा इलाज
इस हादसे में सिर्फ ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ही जीवित बचे हैं। उन्हें वेलिंगटन सैन्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हेलीकॉप्टर में कुल 14 लोग सवार थे।  विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान Mi-17V5 के पायलट थे जो CDS जनरल बिपिन रावत सहित 14 लोगों के साथ दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। वह 109 हेलीकॉप्टर यूनिट के कमांडिंग ऑफिसर थे।

सुलुर वायुसेना स्टेशन से भरी थी उड़ान
जनरल बिपिन रावत को ले जा रहा भारतीय वायुसेना का एक हेलिकॉप्टर बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि कोहरे और खराब मौसम की वजह से वायुसेना का Mi-17V5 हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। हादसे के कारण का पता लगाने के लिए ‘कोर्ट ऑफ इंक्वायरी’ के आदेश दिए गए हैं। हेलीकॉप्टर ने कोयंबटूर के पास सुलुर वायुसेना अड्डे से उड़ान भरी थी।

सबसे सुरक्षित हेलीकॉप्टरों में से एक
भारतीय सेना का Mi-17V5 सबसे सुरक्षित हेलीकॉप्टरों में से एक है। किसी भी वीवीआईपी दौरे में इसी विमान का उपयोग किया जाता है। यह डबल इंजन का हेलीकॉप्टर है, जिससे एक इंजन में खराबी आने पर दूसरे इंजन के सहारे सुरक्षित लैंडिंग कराई जा सके। इस हेलीकॉप्टर की तुलना चिनूक हेलीकॉप्टर से की जाती है।

डिफेंस सर्विसेज कॉलेज जा रहे थे जनरल रावत
सीडीएस जनरल रावत वेलिंग्टन में डिफेंस सर्विसेज कॉलेज जा रहे थे। कुछ वरिष्ठ अधिकारियों को लेकर हेलीकॉप्टर कोयंबटूर के सुलुर से वेलिंग्टन में डीएससी की ओर जा रहा था, जहां जनरल रावत, थल सेनाध्यक्ष एमएम नरवणे के साथ बाद में एक कार्यक्रम में भाग लेने वाले थे।

India News
CDS Bipin Rawat: सीडीएस की भूमिका क्या थी, उनकी यात्रा में क्या प्रोटोकॉल फॉलो किया जाता था?
8 दिसंबर 2021

India News
CDS Bipin Rawat Helicopter Crash: ये हैं वे तीन कारण, जो MI-17V5 की भरोसेमंद तकनीक और अनुभवी पायलटों पर पड़े भारी
8 दिसंबर 2021

Advertisements