Coronavirus Telangana: महात्मा ज्योतिबा फुले स्कूल की 43 छात्राएं कोरोना संक्रमित, मचा हड़कंप

Advertisements

Coronavirus Telangana कोरोना की स्थिति में सुधार होते ही सभी राज्यों में स्कूलों को भी लगभग खोल दिया गया है। लेकिन इस बीच कोरोना तेजी से अपने पैर पसार रहा है। अब खबर सामने आई है कि तेलंगाना के संगा रेड्डी जिले के महात्मा ज्योतिबाफुले स्कूल की 43 छात्राओं में कोरोना संक्रमण पाया गया है। रिपोर्ट सामने आते ही जिले में हड़कंप मच गया है। डीएम डॉ. गायत्री का कहना है सभी छात्राओं के कोरोना संक्रमित होने की सूचना सामने आते ही सभी को आइसोलेशन में रखा गया है, जहां उनका उपचार किया जा रहा है।

Coronavirus Telangana गोवा में सात बच्चे संक्रमित
गोवा के जुवेनाइल डिटेंशन सेंटर में भी सोमवार को सात बच्चे कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। उत्तरी गोवा के जिला कलेक्टर अजीत रॉय ने बताया कि सभी बच्चों को आइसोलेशन में भेज दिया गया और विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम उनकी देखभाल कर रही है। उन्होंने बताया कि किसी भी बच्चे में गंभीर लक्षण नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: आज मिले 39 पॉजिटिव केस, रविवार को 326 लोगों के लिए गए थे सेम्पल

महाराष्ट्र के भिवंडी में भी 62 बुजुर्ग हुए संक्रमित
तेलंगाना, गोवा के अलावा महाराष्ट्र के भिवंडी में भी सोमवार को 62 बुजुर्गों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। चिंता की बात यह है कि जिन बुजुर्गों को कोरोना संक्रमण हुआ है, उसमें सभी पूरी तरह कोरोना टीकाकरण करवा चुके थे। इसके अलवा उसी वृद्धाश्रम के पांच कर्मचारी और उनके परिवार के दो लोगों में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर भारत सरकार ने जारी किए दिशानिर्देश
कोरोना के ओमिक्रॉन स्वरूप से जंग के लिए भारत सरकार ने चौकसी बढ़ा दी है। विदेश से आने वाले यात्रियों को एक दिसंबर से यात्रा शुरू करने के पहले एयर सुविधा पोर्टल पर निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट अपलोड करनी होगी। पिछले 14 दिन का यात्रा विवरण भी बताना होगा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार देर शाम ये दिशा-निर्देश जारी किए।

इसे भी पढ़ें-  कटनी कोरोना अपडेट: 526 सेम्पल की रिपोर्ट में 81 नए पॉजिटिव केस

अब खतरे वाले देशों से आने वालों की भारत आते ही कोरोना जांच होगी। रिपोर्ट आने तक उन्हें एयरपोर्ट पर ही रोका जाएगा। रिपोर्ट निगेटिव आती है तो उन्हें सात दिन घर पर या जहां भी ठहरे हों, वहां क्वारंटीन रहना होगा। आठवें दिन दोबारा जांच होगी। इसमें भी रिपोर्ट निगेटिव आई तो अगले सात दिन खुद पर निगरानी रखनी होगी।

 

Advertisements