Aanganbadi Vacancy In MP: 30 नवंबर तक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं के खाली पद भरने के निर्देश

Advertisements

Aanganbadi Vacancy In MP भोपाल। महिला एवं बाल विकास विभाग ने जिला कार्यक्रम अधिकारियों को हर हाल में 30 नवंबर तक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाओं के खाली पद भरने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश में वर्तमान में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के 1467 और सहायिकाओं के 2026 पद खाली हैं। विभाग का तर्क है कि पद खाली होने के कारण आंगनबाड़ी केंद्रों में कामकाज प्रभावित हो रहा है।

विभाग ने जुलाई 2021 में जिला अधिकारियों को खाली पद भरने के निर्देश दिए थे। फिर भी कई जिलों में पद भरने की प्रक्रिया शुरू नहीं हुई। इसे देखते हुए विभाग ने दोबारा निर्देश जारी किए हैं। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में प्रदेश में 97 हजार 135 आंगनबाड़ी केंद्र संचालित हैं। इनमें कार्यकर्ता के 95 हजार 668 पद भरे हैं और 1467 पद खाली हैं। ऐसे ही सहायिका के 2026 पद खाली हैं। इनमें से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के सबसे अधिक धार में 82, भिंड में 74, खरगोन में 56 पद खाली हैं तो सहायिकाओं के भिंड में 132, बुरहानपुर में 112 और भोपाल एवं झाबुआ में 75-75 पद खाली हैं।

इसे भी पढ़ें-  Sports league Article 370: अनुच्छेद 370 के नाम पर स्पोर्ट्स लीग शुरू करेगी भाजपा, अमित शाह के संसदीय क्षेत्र में होगा आयोजन

बाग प्रिंट, सांची स्तूप, खजुराहो के मंदिर की कलाकृति वाले कपड़ों का उत्पादन बढ़ाएं

मध्य प्रदेश की बाग प्रिंट साड़ियां, सांची स्तूप-खजुराहो के मंदिरों के कलाकृतियुक्त कपड़ों ने विशेष पहचान बना ली है। इसलिए उनका उत्पादन बढ़ाएं। इसके लिए शिल्पियों को प्रशिक्षित करें। यह बात कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री गोपाल भार्गव ने कही। वे मंगलवार को मध्य प्रदेश सिल्क फेडरेशन के संचालक मंडल की 33वीं बैठक को संबोधित कर रहे थे।

भार्गव ने कहा कि प्रदेश के शिल्प को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय बाजार मुहैया कराने के प्रयास जारी रखें। शिल्पियों को जरूरी प्रशिक्षण के साथ बाजार पद्धति (मार्केटिंग प्रणाली) की भी जानकारी दें। उन्हें भोपाल, रायपुर, नईदिल्ली में आयोजित खादी एक्सपो की उपलब्धियों से अवगत कराया गया। मंत्री ने कहा कि कोरोना काल में सैनिटाइजर एवं मास्क का चलन बढ़ा है, इसलिए इनके निर्माण पर विशेष जोर दिया जा रहा है। बैठक में कुटीर एवं ग्रामोद्योग विभाग की प्रमुख सचिव स्मिता भारद्वाज, हाथकरघा एवं हस्तशिल्प आयुक्त सुरभि गुप्ता सहित संचालक मंडल के सदस्य उपस्थित थे।

Advertisements