अमरिंदर संग लव अफेयर के आरोप पर बोलीं अरूसा- कैप्टन मेरे सोलमेट

Advertisements

पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम के कथित आईएसआई लिंक और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के साथ कथित संबंधों की चर्चा इन दिनों पंजाब की सियासत में जोरों पर हैं। इतना ही नहीं, पाक पत्रकार अरूसा के कथित ISI लिंक को लेकर कैप्टन अमरिंदर सिंह आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं। इस बीच खुद पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम सामने आई हैं और उन्होंने आईएसआई लिंक से लेकर कैप्टन संग अपने रिश्तों पर सफाई दी है। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि कैप्टन उनके दोस्त हैं, साथी हैं पर लवर नहीं।

टीवी चैनल आजतक के साथ बातचीत में कैप्टन के साथ कथित ‘लव अफेयर्स’ के आरोपों को अरूसा आलम ने खारिज कर दिया और कहा कि वे दोनों केवल अच्छे दोस्त हैं, पर लवर नहीं। अरूसा ने कहा कि हम जब पहली बार मिले थे, तो उनकी उम्र 66 साल की थी और मेरी 56। इतनी उम्र में कोई भी लवर की तलाश में नहीं रहता। हम ऐसे वक्त में मिले, जहां प्यार और रोमांस की कोई जगह नहीं। हम अच्छे साथी रहे हैं, हम सोलमेट हैं, हम लवर नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें-  IRCTC Ticket Rules For Night: रात 10 बजे के बाद नहीं कर सकता टीटीई आपका ट्रेन टिकट चेक, जानें क्या है नियम

वहीं, समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पाकिस्तानी पत्रकार आरूसा आलम मंगलवार को पाक खुफिया एजेंसी आईएसआई से कथित संबंधों के आरोपों को बेहद अपमानजनक और निराशाजनक करार दिया। उन्होंने कहा कि वह इन आरोपों को लेकर भारतीय एजेंसियों की जांच में सहयोग देने के लिए तैयार हैं। पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने पिछले सप्ताह कहा था कि आरूसा का आईएसआई के साथ कोई संबंध है या नहीं, इसकी जांच की जाएगी।

आरूसा ने कहा, अगर भारत की केंद्रीय एजेंसियां इस मामले की जांच करना चाहती हैं तो मैं सहयोग करने को तैयार हूं। भारत मेरे खिलाफ आधारहीन दुष्प्रचार की जांच करने के लिए किसी तीसरे देश के जांचकर्ताओं की भी मदद ले सकता है। अरूसा ने कहा, ”अगर भारत की केन्द्रीय एजेंसियां इस मामले की जांच करना चाहती हैं तो मैं सहयोग करने को तैयार हूं। भारत मेरे खिलाफ आधारहीन प्रोपगैंडा की जांच करने के लिए किसी तीसरे देश के जांचकर्ताओं की भी मदद ले सकता है।”

इसे भी पढ़ें-  Navy Day 2021: अब दुश्मनों की खैर नहीं! नौसेना प्रमुख बोले-10 साल का रोडमैप तैयार, भारत के पास जल्द होंगी स्वदेशी-मानवरहित प्रणालियां

उन्होंने कहा, ”16 साल पहले जब किन्हीं कारणों से मुझे भारतीय वीजा देने से मना कर दिया गया था, उस वक्त भारत सरकार ने ऐसी जांच की थी और बाद में वीजा जारी किया गया था।” वह अंतिम बार नवंबर में भारत यात्रा पर गयी थीं और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह अभी भी उनके अच्छे मित्र हैं। 67 वर्षीय पत्रकार ने कहा, ”इस विवाद के बावजूद कैप्टन साहिब अभी भी मेरे अच्छे मित्र हैं।” उन्होंने कटाक्ष किया कि उनके जरिए आईएसआई ने आखिर क्या ‘राज’ हासिल कर लिया होगा। उन्होंने गुस्से में कहा, ”ये आरोप अपमानजनक और बेहद निराशाजनक हैं।”

इसे भी पढ़ें-  Panchayat Chuna: आज शाम से लग सकती है आचार संहिता
Advertisements