पश्चिमी यूपी में उफान पर गंगा: दर्जनों गांवों में घुसा पानी, फसलें हुईं बर्बाद, मुश्किल में ग्रामीणों की जान

Advertisements

पहाड़ी क्षेत्रों में हुई भारी बारिश के कारण गंगा बैराज का जलस्तर दूसरे दिन भी चेतावनी बिंदुसे ऊपर बह रहा है। खादर क्षेत्र के कई गांवों में पानी ग्रामीणों के घरों तक पहुंच गया है। जिला पंचायत अध्यक्ष वीरपाल निर्वाल खादर क्षेत्र में पहुंचे और प्रभावित लोगों का हाल जाना। सिंचाई विभाग के जेई पीयूष कुमार का कहना है कि चार बजे हरिद्वार गंगा बैराज से 2,26,011 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा गया है।

गंगा बैराज का जलस्तर दूसरे दिन भी चेतावनी बिंदु 219 से ऊपर 219.90 पर बह रहा है। खादर क्षेत्र के गांव जीवनपुरी, रामपुर ठकरा, लालपुर, हंसावाला, इशाक वाला सहित कई दर्जन गांव के जंगल सहित गंगा का पानी ग्रामीणों के घरों तक पहुंच गया है। गांव में गंगा का पानी पहुंच जाने के कारण ग्रामीणों को बाढ़ की आशंका सताने लगी है। क्षेत्र के ग्रामीणों का कहना है कि जंगल में पानी आ जाने के कारण उनकी गन्ने और अन्य फसल जलमग्न हो गई है। वही धान की 50 प्रतिशत परमाल और गोभी आदि की फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई है।

जिपं अध्यक्ष वीरपाल निर्वाल गांव जीवनपुरी पहुंचे और क्षेत्र के किसानों से पानी की स्थिति के बारे जानकारी ली। उन्होंने मौके पर ही प्रशासनिक अधिकारियों को किसानों की समस्याओं के बारे में अवगत कराया। एसडीएम जानसठ जयेंद्र कुमार ने बताया कि गंगा बैराज का जलस्तर बुधवार को कम हुआ है। खादर क्षेत्र के समस्त लेखपालों से हर घंटे की स्थिति की जानकारी ली जा रही है। खादर क्षेत्र में फिलहाल बाढ़ जैसी कोई स्थिति नहीं है। प्रशासन पूरी तरह अलर्ट पर है।

 

Advertisements