Aryan Khan Drugs Case: ‘कसम खाता हूं, जेल से बाहर जाकर ड्रग्स को नहीं लगाऊंगा हाथ’, जानें आर्यन खान ने NCB से और क्या कहा

Advertisements

शाहरुख खान (Shahrukh Khan) के बेटे आर्यन खान (Aryan Khan) फिलहाल मुंबई क्रूज ड्रग्स पार्टी (Mumbai cruise drugs party) मामले में मुंबई के आर्थर रोड जेल (arthur road jail) में हैं. उन्हें जमानत मिलेगी या नहीं, देश भर में इसकी चर्चा है. इस बीच आर्यन खान ने अपनी आगे की ज़िंदगी सभी तरह के व्यसनों से दूर रह कर, देश के एक जिम्मेदार नागरिक की तरह बिताने की इच्छा जताई है. जेल में NCB के अधिकारियों और स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा उनकी काउंसिलिंग की जा रही है. इसी काउंसिलिंग के दरम्यान आर्यन खान ने कहा है कि, ‘मैं कसम खाता हूं कि जेल से बाहर आने के बाद ड्रग्स को हाथ भी नहीं लगाऊंगा.’

इसे भी पढ़ें-  Fire In Sagar Market: सागर में बाजार के बीच में स्‍थित कागज गोदाम में आग लगी, लाखों का नुकसान

दो NGO के कर्मचारियों और अधिकारियों द्वारा एनसीबी के कार्यालय और आर्थर रोड जेल में जाकर आर्यन और क्रूज में अरेस्ट किए गए अन्य सात लोगों की काउंसिलिंग की जा रही है. अधिकारियों के मुताबिक इसी काउंसिलिंग के दरम्यान आर्यन खान ने देश के एक ज़िम्मेदार नागरिक की तरह अपनी आगे की ज़िंदगी बिताने की इच्छा जताई है.

आर्यन खान काउंसिलिंग में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे हैं

आर्यन और अन्य सातों लोग 30 साल से कम उम्र के ही हैं. उन्हें ड्रग्स की लत से छुटकारा दिलाने के लिए एनजीओ की ओर से मदद की जा रही है. इन युवाओं को समीर वानखेड़े सहित एनसीबी के अन्य अधिकारियों और स्वयंसेवी संस्थाओं के कार्यकर्ताओं की ओर से ड्रग्स के दुष्परिणाम बताए जा रहे हैं. इससे व्यक्ति, समाज और देश को होने वाले नुकसान को लेकर उन्हें जागरुक किया जा रहा है. ऐसा कर के उन्हें ड्रग्स से दूर रहने की नसीहत दी जा रही है. यह एनसीबी की कार्य पद्धति का एक हिस्सा है. अधिकारियों के मुताबिक इस काउंसिलिंग में आर्यन खान बहुत अच्छा रेस्पॉन्स दे रहे हैं. वे हर बात बहुत गौर से सुनते हैं. उन बातों पर अपनी राय भी जाहिर करते हैं और सुधरने की इच्छा जताते हैं.

इसे भी पढ़ें-  Bhopal Railway News: विवेक कुमार होंगे भोपाल रेल मंडल के नए सीनियर डीओएम, डा. मीना का तबादला

आर्यन खान गरीबों की मदद के लिए काम करने की इच्छा रखते हैं

आर्यन खान काउंसिलिंग के दरम्यान अधिकारियों और एनजीओ कार्यकर्ताओं की बातों को बेहद ध्यान से सुनते हैं. उनके दिए गए निर्देशों का पालन करते हैं. बार-बार नशे से दूर रहने की इच्छा जता रहे हैं. अधिकारियों के मुताबिक आर्यन खान काउंसिलिंग के दरम्यान समाज के गरीब और वंचित  तबके के लोगों के लिए काम करने की इच्छा रखते हैं.

 

Advertisements