इसे देखते हुए, इसमें रहने वाले लोगों और पड़ोसियों ने तत्काल इसकी जानकारी बृहत बेंगलुरु महानगर पालिका को सूचना दी। जिसके बाद इमारत को खाली कर दिया गया था। इसके निरीक्षण के बाद बीबीएमपी के अधिकारियों ने कहा था कि इमारत कभी भी गिर सकती है और आसपास के भवनों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इसे सुरक्षित रूप से नीचे खींचना बेहतर होगा। इसके पीछे भारी बारिश और बिल्डिंग की कमजोर नींव को मुख्य वजह बताया गया। बता दें कि रविवार और सोमवार को बेंगलुरु में भारी बारिश हुई थी, जिससे शहर भर में बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई थी।
https://twitter.com/ANI/status/1448258000091852802?t=48rHJbEUpxmndHcCRKoy0w&s=19

आपको बता दें कि बेंगलुरु में पिछले कुछ दिनों में इमारतों के झुकने और गिरने की कई ऐसी घटनाएं हुई हैं। बीते हफ्ते कस्तूरी नगर में बेंगलुरु एक पांच मंजिला आवासीय इमारत ढह गई थी। हालांकि, इस घटना में कोई हताहत नहीं हुआ था। बेंगलुरु के नगर आयुक्त ने कमजोर इमारतों के गिरने के खतरे को देखते हुए कहा है कि एक समिति बनाए जाएगी, जो ऐसी बिल्डिंगों की पहचान करेंगी।

इसे भी पढ़ें-  महामारी अभी खत्म नहीं हुई; WHO चीफ ने फिर दुनिया को चेताया- कोरोना तब खत्म होगा जब...