ये सभी स्कूल विशिष्ट स्तंभ के रूप में कार्य करेंगे जो रक्षा मंत्रालय के मौजूदा सैनिक स्कूलों से विशिष्ट और भिन्न होंगे। प्रथम चरण में 100 सम्बद्ध होने वाले भागीदारों को राज्यों/एनजीओ/निजी भागीदारों से लिया जाना प्रस्तावित है। यानी पहले चरण में सरकारी और प्राइवेट मिलाकर कुल 100 स्कूलों को संबद्धता प्रदान की जाएगी।