गुमशुदा टायर व्यापारी की जंगल में मिली लाश, नौकर की पत्नी ने मारी थी गोली

Advertisements

इंदौर । लसूड़िया इलाके से लापता टायर व्यापारी का शव सिमरोल के जंगल में मिला है। व्यापारी की सिर में गोली मारकर उनकी हत्या की है। पुलिस ने व्यापारी के यहां पहले काम करने वाले आरोपित राजकुमार और उसकी पत्नी ब्रजेश को पुलिस ने हत्या करने के मामले में गिरफ्तार कर लिया है।

एसपी पूर्व आशुतोष बागरी ने बताया कि पंचवटी निवासी 47 वर्षीय अशोक कुमार वर्मा दो अक्टूबर को घर से निकले थे। रात में घर नहीं पहुंचे तो स्वजनों ने मोबाइल लगाया लेकिन वह बंद मिला। परिवार के लोग उनकी तलाश करते रहे। अशोक टायर व्यापारी थे उनकी देवास नाका पर दुकान है। साथ ही वे प्रापटी ब्रोकर का काम भी करते थे। तीन अक्टूबर को परिवार ने उनकी गुमशुदगी रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके बाद लसूड़िया थाना पुलिस जांच में जुट गई थी।

इसे भी पढ़ें-  Katni Police News: दीपावली पर्व पर भी कायम रहे शांति,जबलपुर से आकर आईजी ने की समीक्षा ,दिए निर्देश

सीसीटीवी कैमरे की जांच में पता चला कि दो अक्टूबर को देवास नाका पर एक पेट्रोल पंप पर अशोक ने अपनी गाड़ी खड़ी की थी। यहां से वे पैदल निकले। कैमरे की जांच करते हुए पुलिस स्टार चौराहे पर पहुंची तो पता चला कि व्यापारी यहां अपने नौकर 30 साल के राजकुमार चढ़ार व उसकी पत्नी 25 साल की ब्रजेश से मिले। कुछ देर बात करने के बाद तीनों एक बाइक से रवाना हुए।

पुलिस ने इन फुटेज के आधार पर राजकुमार और पत्नी ब्रजेश को हिरासत में लिया। दोनों से पूछताछ की तो उन्होंने कबूला कि अशोक की सिमरोल के जंगल में ले जाकर उन्होंने हत्या कर दी है। उन्हें साथ लेकर पुलिस जंगल में पहुंची। यहां अशोक का शव मिल गया। उनके सिर में गोली मारी गई थी। अशोक के शरीर पर कोई कपड़ा नहीं था।

इसे भी पढ़ें-  Theft Of Bicycle Belong To Preseident Of Vidhan Sabha: साइकिल यात्रा से पहले गायब हुई विधानसभा अध्यक्ष की साइकिल, ढूंढने में जुटी GRP

इसलिए की थी हत्या

पूछताछ में राजकुमार ने बताया कि वर्ष 2015 में वह अशोक की दुकान पर काम करता था। इस दौरान अशोक की पहचान उसकी पत्नी से हुई। उनके बीच दोस्ती हो गई। यह बात राजकुमार को पता चली तो चार महीने बाद उसने नौकरी छोड़ दी। कुछ समय बाद दोनों अपने घर जिला सागर लौट गए। दूसरे लाकडाउन के बाद से व्यापारी फोन पर राजकुमार और उसकी पत्नी से इंदौर आने के लिए संपर्क कर रहा था। उन्हें रुपयों की जरुरत थी तो दोनों एक महीने पहले इंदौर आ गए।

राजकुमार के मुताबिक इंदौर आने के बाद अशोक फिर पत्नी से दोस्ती के लिए दबाव बनाने लगे। इसी से वे दोनों परेशान हो गए। पहले 25 सिंतबर को भी तीनों सिमरोल के जंगल में इसी जगह आए थे, जहां अशोक का शव मिला। रविवार को दोनों फिर बहाने से उन्हें यहां लेकर आए व गोली मारकर हत्या कर दी। हालांकि मामले में पुलिस अभी जांच कर रही है। आरोपितों के बाद पिस्टल कहां से आई और आरोपितों की कहानी कितनी सही है, इस बारे में अभी और पूछताछ की जा रही है।

इसे भी पढ़ें-  Dipawali Shopping Shub Muhurat: दीपावली से पूर्व 3 नवंबर तक खरीदारी के 6 बेहद शुभ योग

Advertisements