डोप टेस्ट में फंसे युसूफ पठान IPL में खेलते आएंगे नजर

Advertisements

नई दिल्लीः भारतीय हरफनमौला युसूफ पठान पर डोप टेस्ट में नाकाम रहने के कारण आज पांच महीने का पूर्वप्रभावी निलंबन लगाया गया जो 14 जनवरी को समाप्त हो जाएगा। बीसीसीआई ने स्वीकार किया कि उन्होंने अनजाने में प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन किया है । बीसीसीआई ने एक बयान में कहा ,‘‘ युसूफ पठान पर डोपिंग उल्लंघन के कारण प्रतिबंध लगाया गया। उन्होंने अनजाने में एक प्रतिबंधित पदार्थ का सेवन कर लिया जो आम तौर पर सर्दी खासी के सिरप में पाया जाता है ।’’ पठान ने पिछले साल 16 मार्च को एक घरेलू टी20 प्रतिस्पर्धा के बाद बीसीसीआई के डोपिंग निरोधक परीक्षण कार्यक्रम के तहत मूत्र का नमूना दिया था।

जांच में मिले थे टरबूटेलाइन के अंश
बोर्ड ने कहा ,‘‘ उनके नमूने की जांच की गई और उसमें टरबूटेलाइन के अंश मिले। यह वाडा के प्रतिबंधित पदार्थों की सूची में आता है ।’’ भारत के लिए 57 वनडे और 22 टी20 मैच खेल चुके पठान पर बीसीसीआई के डोपिंग निरोधक नियमों की धारा 2.1 के तहत आरोप लगाया गया और आरोप के निर्धारण तक उन्हें अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया था ।

पठान की सफाई से संतुष्ट है BCCI
बीसीसीआई ने कहा,‘‘ पठान ने आरोप को स्वीकार करते हुए बताया कि यह गलती से उस दवा को लेने के कारण हुआ है जिसमें टरबूटेलाइन मौजूद थी। उन्हें गलती से यह दवा दे दी गई जबकि उन्हें जो नुस्खा दिया गया था , उसमें कोई प्रतिबंधित दवा नहीं थी।’’ बीसीसीआई ने कहा कि वह पठान की सफाई से संतुष्ट है कि यह प्रदर्शन बेहतर करने वाली दवा नहीं थी बल्कि श्वसन संक्रमण के लिए ली गई थी। बीसीसीआई ने कहा कि पठान को पिछले साल 28 अक्तूबर को अस्थायी रूप से निलंबित किया गया था और बोर्ड ने तय किया है कि उसका निलंबन 15 अगस्त से प्रभावी होगा और इसकी अवधि 14 जनवरी 2018 तक रहेगी।

युसूफ ने के फैसले का किया धन्यवाद
युसूफ पठान ने बीसीसीआई का धन्यवाद करते हुए कहा कि मैं खुश हूं कि आपने इस केस को सही तरीके से खत्म किया। उन्होंने कहा कि 14 जनवरी को मुझपर लगा बैन समाप्त हो जाएगा जिसके बाद मैं फिर से क्रिकेट खेलना शुरू करूंगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैं खेल जगत का देन कभी नहीं दे सकता, जिसने मुझे जिंदगी में सब कुछ दिया।

Advertisements