अब प्राथमिक शिक्षकों को दी जाएगी डिजिटल ट्रेनिंग, मोबाइल के माध्यम से ही इन कोर्स को पढ़ सकते हैं टीचर

Advertisements

भोपाल। मध्य प्रदेश में कक्षा पहली से पांचवी तक पढ़ाने वाले शिक्षकों के लिए “बुनियादी साक्षरता और संख्या ज्ञान (Foundation Literacy & Numeracy)” विषय पर ऑनलाइन कोर्स श्रृंखला एक अक्टूबर से शुरू की गई है। बताया गया है कि कुल 12 डिजिटल ट्रेनिंग कोर्स तैयार किए गए हैं जो शासकीय प्राथमिक विद्यालयों के सभी शिक्षकों को पूरा करना अनिवार्य है।

भारत में सरकारी प्राइमरी टीचर्स के लिए 12 डिजिटल ट्रेनिंग कोर्स

संचालक राज्य शिक्षा केंद्र श्री धनराजू एस ने बताया कि शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार के निर्देशन में NCERT ने शिक्षकों के लिए 12 डिजिटल प्रशिक्षण कोर्स तैयार किए हैं। यह सभी प्रशिक्षण कार्यक्रम भारत सरकार के दीक्षा एप पर उपलब्ध कराए गए हैं। संबंधित कक्षाओं का अध्यापन कराने वाले शिक्षक अपनी सुविधानुसार समय पर अपने मोबाइल के माध्यम से ही इन कोर्स को पूर्ण कर सकेंगे। कोर्स पूर्ण करने पर शिक्षकों को इस प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र भी प्राप्त होगा।

कक्षा तीन तक साक्षरता और संख्या ज्ञान अनिवार्य

श्री धनराजू ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020, कक्षा तीसरी तक के सभी बच्चों में ‘बुनियादी साक्षरता और संख्या ज्ञान’ को वर्ष 2026-27 तक सुनिश्चित करने को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है। बच्चों के प्रारंभिक वर्ष उनके जीवन में वृद्धि और विकास के सबसे महत्वपूर्ण वर्ष होते हैं। यह वह समय होता है जब उनके समग्र विकास और सीखने की नींव रखी जाती है।

मध्य प्रदेश के 177695 प्राथमिक शिक्षकों को कोर्स पूरा करने के निर्देश

जो बच्चे गुणवत्तापूर्ण प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करते हैं वे सामाजिक, शैक्षिक और बौद्धिक क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन करते हैं। प्रारंभिक वर्षों में मजबूत नींव तैयार करने का बच्चों के विकास पर स्थाई प्रभाव पड़ता है। इस दृष्टि से कक्षा पहली से पाँचवी तक के विद्यार्थियों को पढ़ाने वाले प्राथमिक कक्षाओं के शिक्षकों के लिए यह प्रशिक्षण कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने प्रदेश के शासकीय विद्यालयों में कक्षा एक से 5 का अध्यापन कराने वाले सभी एक लाख सत्ततर हज़ार छः सौ पचपन शिक्षकों से इन प्रशिक्षण कार्यक्रमों को पूर्ण करने का आग्रह भी किया है।
Advertisements

इसे भी पढ़ें-  Gwalior adulteration free campaign: लैब में फेल हुए सैंपल, पांच प्रतिष्ठानाें के संचालकाें पर कराई FIR