CM अशोक गहलोत की कुर्सी पर संकट के बादल? राहुल-प्रियंका के साथ बंद कमरे में 1 घंटेतक सचिन पायलट ने की बातचीत

Advertisements

सचिन पायलट आज राहुल गांधी से मिलने दिल्ली पहुंचे. पायलट की मुलाकात राहुल गांधी के आवास पर प्रियंका गांधी से भी हुई

 

पंजाब में कैप्टन अमरिंदर को सत्ता से हटाए जाने के बाद अब राजस्थान में भी बड़े बदलाव (Rajasthan Politics) के कयास लगाए जा रहे हैं. दरअसल सचिन पायलट आज राहुल गांधी से मिलने दिल्ली (Sachin Pilot Meet Rahul Gandhi) पहुंचे. पायलट ने राहुल गांधी के आवास पर प्रियंका गांधी से भी मुलाकात की. सचिन पायलट से मिलने प्रियंका भी राहुल के आवास पर पहुंची थीं. इस बात से राजस्थान में बदलाव की चर्चा तेज हो गई है.

इसे भी पढ़ें-  Kerala Weather Updates: केरल में भारी बारिश और भूस्खलन से तबाही, अब तक 9 लोगों की मौत, रेस्क्यू आपरेशन जारी

राजस्थान के सियासी हालात किसी से छिपे नहीं हैं. गहलोत (CM Gehlot) और पायलट गुट के बीच काफी समय से तनातनी देखने को मिल रही है. पंजाब में सत्ता परिवर्तन के बाद पायलट गुट के हौसले और भी मजबूत हो गए हैं. सचिन पायलट आज राहुल गांधी से मिलने उनके दिल्ली आवास पर पहुंचे. इस मुलाकात को राजस्थान के सियासी घटनाक्रम से जोड़कर देखा जा रहा है.

सीएम गहलोत की कुर्सी पर संकट?

गांधी परिवार के करीबी होने के बाद भी आलाकमान ने कैप्टन अमरिंदर को सत्ता से हटाने में ज्यादा नहीं सोचा. इससे साफ हो जाता है कि सीएम गहलोत की कुर्सी पर भी संकट के बादल मंडरा सकते हैं.अब सचिन पायलट का राहुल गांधी से मिलना किसी बड़े सियासी बदलाव की ओर इशारा कर रहा है. जिस तरह से कांग्रेस ने अमरिंद से पंजाब की कुर्सी छीनकर दलित सीएम बना दिया. उसी तरह से राजस्थान में ब्राह्मण कार्ड खेला जा सकता है.

इसे भी पढ़ें-  Katni News: शरारती तत्वों ने रोका एएसआइ का रास्ता, 7 पर FIR

राहुल गांधी से मिले सचिन पायलट

दिल्ली में आज राहुल और प्रियंका गांधी के साथ सचिन पाललट की करीब 1 घंटे तक बैठक हुई. बैठक में तीनों के बीच क्या बातचीत हुई, फिलहाल यह सामने नहीं आया है. लेकिन राजस्थान में सियासी बदलाव की अटकलें तेज जरूर हो गई हैं. पंजाब में राजनीतिक बदवाल के बाद सचिन पायलट गुट के हौसले काफी बुलंद हो गए हैं. अब उन्हें लगने लगा है कि राजस्थान में भी बदलाव असंभव नहीं है. हालांकि पंजाब और राजस्थान के हालात एक-दूसरे से अलग हैं. पंजाब में विधायकों को सपोर्ट अमरिंदर के साथ नहीं था. लेकिन राजस्थान में सीएम गहलोत को विधायकों का बड़ा समर्थन हासिल है

इसे भी पढ़ें-  कटनी के माधवनगर में सिर में पत्थर पटक कर युवक की हत्या
Advertisements