तिहाड़ जेल में कैदियों के बीच हुई खूनी झड़प, चाकू से किए कई वार, तीन कैदी घायल

Advertisements

तिहाड़ जेल में 11 सितंबर की रात को जेल संख्या तीन में कैदियों के बीच खूनी झड़प हो गई। खूनी झड़प में जेल में बंद तीन कैदी घायल हो गए। घायलों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती किया गया है। अस्पताल से सूचना मिलने के बाद हरिनगर थाना पुलिस अस्पताल पहुंची। जहां घायल कैदी सुमित दत्त के बयान पर पुलिस ने हत्या का प्रयास सहित कई धाराओं में केस दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी है।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि 11 सितंबर को रात दस बजे दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल से सूचना मिली कि जेल संख्या तीन में बंद विचाराधीन कैदी सुमित दत्त के साथ मारपीट की गई है। उसे घायल अवस्था में यहां लाया गया है। पता चला कि सुमित के पर चाकू से वार किए गए थे। पुलिस ने जब सुमित से पूछताछ की तो उसने बताया कि कालू व बिलौठा नाम के कैदियों की उससे लड़ाई हुई थी। इस दौरान उसके शरीर पर धारदार हथियार से वार किए गए।

इसे भी पढ़ें-  Captain Amrinder Singh Resignation News : पंजाब की सियासत में बड़ा धमाका, साेनिया गांधी ने कैप्‍टन अमरिंदर से मांगा इस्तीफा, जानें कौन हो सकता है 

सुमित की हालत को देखते हुए उसे डीडीयू से सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया गया। पुलिस के अनुसार इस मारपीट में बृजेश को चोटें आई। उसके शरीर पर भी चाकू से वार के निशान हैं। उसे भी सफदरजंग अस्पताल भेज दिया गया।

इस पूरे प्रकरण में छानबीन के आधार पर पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज किया है। उधर जेल प्रशासन का कहना है कि दो घायलों को उपचार के बाद वापस जेल भेज दिया गया है। पूरे मामले की छानबीन हो रही है।

 

ज्ञात हो कि राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा देश के सभी जेलों की स्थिति पिछले वर्ष जारी रिपोर्ट में दिल्ली की जेलों के बारे में कई चौंकाने वाली बातें बताई गई थी। सुरक्षा से जुड़े तमाम तरह के आधुनिक इंतजाम के बावजूद जेल में कैदियों के बीच झड़प के मामले सामने आते रहते हैं। झड़प के दौरान कैदियों ने एक दूसरे पर जमकर हमला करते हैं। वर्ष 2019 की बात करें तो झड़पों में 92 कैदी घायल हुए थे।

इसे भी पढ़ें-  Lokayukta Raid: लोकायुक्‍त टीम ने पंचायत समन्वयक अधिकारी ओमप्रकाश राठौर को रिश्‍वत लेते पकड़ा

 

 

 

Advertisements