अफगानिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमले में दो हाईप्रोफाइल ISIS-K साजिशकर्ता और सूत्रधार मारे गए

Advertisements

अमेरिकी सेना ने कहा कि उसने अफगानिस्तान में एक ड्रोन हमला किया जिसमें इस्लामिक स्टेट के दो हाई-प्रोफाइल साजिशकर्ता और सूत्रधार की मौत हो गई। राष्ट्रपति जो बाइडन ने काबुल हवाईअड्डे पर दोहरे विस्फोटों के लिए कार्रवाई का वादा किया था जिसमें 169 अफगानी और 13 अमेरिकी नागरिक मारे गए।

वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका ने अफगानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट पर आत्मघाती हमले के 48 घंटे के भीतर ही उसकी साजिश रचने वाले इस्लामिक स्टेट-खुरासान (आइएस-के) के दो शीर्ष आतंकी सरगना को मार गिराया है। पाकिस्तान की सीमा के पास नांगरहार प्रांत में शुक्रवार रात किए गए ड्रोन हमले में इस्लामिक स्टेट का एक साजिशकर्ता घायल भी हुआ है। तालिबान ने अमेरिका के इस हमले की निंदा की है और इसे अफगानिस्तान की धरती पर हमला बताया है। उसने यह भी कहा है कि अमेरिका को हमले से पहले उसे बताना चाहिए था।

काबुल हमले के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा था कि इस हमले के दोषियों को खोजकर मारेंगे। काबुल एयरपोर्ट पर गुरुवार को हुए दो धमाकों में 13 अमेरिकी सैनिकों समेत 182 लोगों की मौत हुई थी। मरने वालों में 169 अफगान थे। आइएस-के ने हमले की जिम्मेदारी ली थी। अमेरिका सेना के मेजर जनरल विलियम टेलर ने कहा कि नांगरहार प्रांत में रात में किए गए ड्रोन हमले में आइएस के दो साजिशकर्ता मारे गए हैं और एक घायल हुआ है।

इसे भी पढ़ें-  पश्चिमी यूपी में उफान पर गंगा: दर्जनों गांवों में घुसा पानी, फसलें हुईं बर्बाद, मुश्किल में ग्रामीणों की जान

इससे पहले, अमेरिकी मध्य कमान के प्रवक्ता कैप्टन बिल अर्बन ने कहा, ‘अमेरिकी सैन्य बलों ने आइएस-खुरासान के खिलाफ आतंक रोधी अभियान चलाया। अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में मानवरहित हवाई हमले को अंजाम दिया गया। हमें प्रारंभिक तौर पर लक्ष्य के खात्मे का संकेत मिला है। किसी नागरिक के हताहत होने की खबर नहीं है।’

पेंटागन के प्रवक्ता जान किर्बी ने भी कहा कि एक ही ड्रोन हमले में सभी को मार गिराया गया। उन्होंने यह भी कहा कि काबुल एयरपोर्ट पर हमले का खतरा बना हुआ है और हालात पर कड़ी नजर रखी जा रही है।

रीपर ड्रोन से किया गया हमला

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: पाकिस्‍तानी ड्रोन ने अमृतसर के पास गिराई 6 करोड़ रुपए की 1.1 किलोग्राम हेरोइन, BSF ने की गोलीबारी

समाचार एजेंसी रायटर के अनुसार, अमेरिका के एक अधिकारी ने बताया कि आइएस आतंकी के खिलाफ ड्रोन हमले को सुनियोजित तरीके से अंजाम दिया गया। इसके लिए मानवरहित रीपर ड्रोन का उपयोग किया गया। इस ड्रोन को पश्चिम एशिया के एक ठिकाने से रवाना किया गया था।

नांगरहार में सुने गए कई धमाके

रायटर के अनुसार, पाकिस्तान से सटे नांगरहार की राजधानी जलालाबाद के निवासियों ने शनिवार को बताया कि मध्य रात्रि में कई धमाकों की आवाज सुनाई दी। मलिक अदीब नामक एक निवासी ने बताया कि तीन लोगों की मौत हुई और चार घायल हुए हैं। अफगानिस्तान के इस प्रांत को आइएस-खुरासान का गढ़ बताया जाता है। यह माना जाता है कि यहां हजारों की संख्या में आइएस आतंकी हैं।

इसे भी पढ़ें-  इस वजह से थाना प्रभारी और असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर बर्खास्त, जानिए पूरा मामला

काबुल में और हमले की चेतावनी

व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति बाइडन की राष्ट्रीय सुरक्षा टीम ने काबुल में और आतंकी हमले की चेतावनी दी है। इस बारे में टीम ने बाइडन को अवगत कराया है। टीम ने बताया है कि आने वाले दिनों में अफगानिस्तान से लोगों की निकासी का अभियान बेहद खतरनाक होगा। लेकिन खतरे के बावजूद अमेरिका के साहसी सैनिक और लोग निकासी अभियान को अंजाम दे रहे हैं।

काबुल एयरपोर्ट से दूर रहें अमेरिकी

समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक, अमेरिका ने अपने नागरिकों को काबुल एयरपोर्ट के प्रवेश द्वारों से दूर रहने को कहा है। सुरक्षा खतरों का हवाला देते हुए काबुल स्थित अमेरिकी दूतावास ने एक बयान में कहा है कि अमेरिकी नागरिक एयरपोर्ट के गेट से तुरंत दूर हो जाएं।

Advertisements