जनवरी से ऐसे बढ़ा महंगाई भत्ता

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने जनवरी 2020 में DA में 4 फीसदी, फिर जून 2020 में 3 फीसदी और जनवरी 2021 में 4 फीसदी की बढ़ोतरी की गई थी। अब बढ़े हुए महंगाई भत्ते का भुगतान 3 किस्तों में किया जाएगा। AICPI के आंकड़ों की माने तो 7वें वेतन आयोग के तहत जून 2021 में डीए में 3 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है।

मूल वेतन पर वेतन वृद्धि की गणना

 

सातवें वेतन आयोग के मैट्रिक्स के मुताबिक केंद्रीय कर्मचारियों के लेवल-1 की सैलरी रेंज 18,000 रुपए से लेकर 56,900 रुपए तक है। इसका मतलब है कि न्यूनतम मूल वेतन 18,000 रुपए है। अगर हम अपनी गणना न्यूनतम वेतन के आधार पर करें तो सितंबर में इतनी ही बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। अगर जून के केंद्र सरकार महंगाई भत्ते में 3 फीसदी की बढ़ोतरी का फैसला करती है तो डीए 31 फीसदी हो जाएगा और ऐसे में यदि केंद्रीय कर्मचारी की न्यूनतम बेसिक सैलरी 18,000 रुपए हैं तो 31 फीसदी महंगाई भत्ते के लिहाज से कुल वार्षिक महंगाई भत्ता 66,960 रुपए होगा। ऐसे में वेतन में सालाना बढ़ोतरी 30,240 रुपए होगी।

कर्मचारी का मूल वेतन रु. – 18000 रुपए

इसे भी पढ़ें-  दुष्कर्म का आरोपित बड़नगर विधायक का बेटा करण मोरवाल मक्सी से गिरफ्तार

नया महंगाई भत्ता (31%) रु.5580 प्रति महीने

पुराना महंगाई भत्ता (17%) रु.3060 प्रति महीने

अंतर की गणना करें: 5580-3060= 2520 रुपए प्रति महीने

 

वार्षिक वेतन में वृद्धि 2520X12 = 30240 रुपए