Kabul Airport Bomb Blast: काबुल एयरपोर्ट के बाहर धमाका, कई लोगों के घायल होने की खबर, अमेरिका ब्रिटेन समेत कई देशों ने दिया था अलर्ट

Advertisements

Kabul Airport Bomb Blast:  काबुल एयरपोर्ट पर बम धमाका होने की खबर है जिसमें कई लोगों के घायल होने की जानकारी सामने आई है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने अमेरिका के सार्वजनिक मामलों के रक्षा सचिव के सहायक जॉन किर्बी के हवाले से बताया है कि यह धमाका काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुआ है।

काबुल, एजेंसियां। काबुल एयरपोर्ट पर बम धमाका होने की खबर है जिसमें कई लोगों के घायल होने की जानकारी सामने आई है। समाचार एजेंसी एएनआइ ने अमेरिका के सार्वजनिक मामलों के रक्षा सचिव जॉन किर्बी के हवाले से बताया है कि यह धमाका काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुआ है। फि‍लहाल हताहतों की संख्या स्पष्ट नहीं हो पाई है।

इसे भी पढ़ें-  कटनी के माधवनगर में सिर में पत्थर पटक कर युवक की हत्या

बता दें कि आस्‍ट्रेलिया, अमेरिका और ब्रिटेन समेत कई अन्य सहयोगी देशों की ओर से इस बारे में अलर्ट जारी किया गया था। लोगों से गुजारिश की गई थी कि वे काबुल एयरपोर्ट से दूर ही रहें। ब्रिटिश सरकार की ओर से कहा गया था कि इस्लामिक स्टेट के आतंकियों की ओर से काबुल हवाई अड्डे पर मौजूद लोगों को निशाना बनाकर हमले किए जा सकते हैं। यही नहीं अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन की ओर से भी लोगों को सतर्क किया गया था।

काबुल में अमेरिकी दूतावास की ओर से जारी अलर्ट में कहा गया था कि अमेरिकी और अफगान नागरिक एयरपोर्ट की ओर यात्रा करना टाल दें। यही नहीं एयरपोर्ट के गेट पर जो भी लोग पहले से मौजूद हैं वे तत्काल वहां से दूर चले जाएं। आस्ट्रेलिया ने भी लोगों को सतर्क करते हुए उनको एयरपोर्ट से दूर रहने की सलाह दी थी।

इसे भी पढ़ें-  Aryan Khan Drugs Case: ‘कसम खाता हूं, जेल से बाहर जाकर ड्रग्स को नहीं लगाऊंगा हाथ’, जानें आर्यन खान ने NCB से और क्या कहा

 

ब्रिटेन के सशस्त्र बलों के मंत्री जेम्स हैपी ने कहा था कि काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी हमले को लेकर रिपोर्ट आई है। ऐसे में लोगों को एयरपोर्ट से दूर चले जाना चाहिए। उन्‍होंने यह भी कहा था कि यह खतरा आतंकी संगठन इस्लामिक इस्टेट की ओर से है। नाटो के राजनयिक और तालिबानी नेताओं की ओर से भी काबुल एयरपोर्ट के इलाके में आइएस की ओर से हमले का खतरा होने की बात कही गई थी।

डेनमार्क और नीदरलैंड की ओर से भी कहा गया था कि काबुल से उड़ानें संचालित करना अब खतरे से खाली नहीं है। बता दें कि मौजूदा वक्‍त में काबुल हवाई अड्डे की सुरक्षा और संचालन फिलहाल अमेरिकी सैनिकों के हाथ में है। काबुल एयरपोर्ट पर अमेरिका के 5800 सैनिक मौजूद हैं।

Advertisements