अलर्ट: WhatsApp का यह नया वर्जन है बहुत खतरनाक, लोगों के बैंक अकाउंट हो रहे खाली

Advertisements

FMWhatsApp व्हाट्सएप दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला मल्टीमीडिया इंस्टैंट मैसेजिंग एप है। अकेले भारत में ही व्हाट्सएप को करीब 55 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं। व्हाट्सएप पर आए दिन तमाम तरह के मैसेज भेजे और प्राप्त किए जाते हैं।

व्हाट्सएप को एंड्रॉयड फोन में गूगल प्ले-स्टोर और आईफोन में एपल के एप स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है, लेकिन इन दोनों के अलावा कई अन्य सोर्स भी हैं जहां से व्हाट्सएप डाउनलोड किया जा रहा है। तीसरे सोर्स को तकनीकी भाषा में थर्ड पार्टी सोर्स कहा जाता है और इन सोर्स से किसी भी एप को डाउनलोड करना हमेशा खतरनाक होता है। अब व्हाट्सएप के एक नया वर्जन खूब वायरल हो रहा है जिसे किसी थर्ड पार्टी सोर्स या apk फाइल के जरिए लोग अपने फोन में इंस्टॉल कर रहे हैं। इस नए वर्जन का नाम FMWhatsApp है, लेकिन यह आपके लिए बहुत खतरनाक है। आइए जानते हैं क्यों और इससे बचने का तरीका क्या है?

इसे भी पढ़ें-  नितिन गडकरी: केंद्रीय मंत्री ने वर्षों बाद खोला राज, बताया- क्यों पत्नी को बिना बताए ससुर के घर पर चलवा दिया था बुलडोजर?

सबसे पहली बात जो आपके लिए जानना जरूरी है, वह यह है कि व्हाट्सएप के इस नए वर्जन का नाम FMWhatsApp है जो कि व्हाट्सएप के असली एप का एक मोडिफाइड वर्जन है। इस एप को लोग एपीके या किसी थर्ड पार्टी सोर्स से डाउनलोड कर रहे हैं। FMWhatsApp के जरिए व्हाट्सएप के डिलीट हुए मैसेज को भी पढ़ने का दावा किया जा रहा है।

FMWhatsApp फिलहाल एंड्रॉयड यूजर्स के लिए ही उपलब्ध है और यह फोन आपके स्मार्टफोन को पूरी तरह से कंट्रोल कर सकता है और आपकी मर्जी के बिना आपके फोन में सारे काम कर सकता है। यह एप आपके बैंक अकाउंट को भी खाली कर सकता है।

इसे भी पढ़ें-  यूपी चुनाव को लेकर बड़ा एलान: अगर आम आदमी पार्टी की सरकार बनी तो 300 यूनिट फ्री बिजली देंगे

साइबर सिक्योरिटी फर्म कास्परस्काई (Kaspersky) ने वॉट्सएप के इस मॉडिफाइड वर्जन FMWhatsApp 16.80.0 को लेकर लोगों को आगाह किया है। इस एप में कुछ ऐसे फीचर्स दिए गए हैं जो वास्तविक एप में नहीं हैं।

कास्परस्काई के मुताबिक FMWhastApp में ट्रोजन Triada मौजूद है और इसके साथ एक एडवरटाइजिंग सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट किट (SDK) भी मौजूद है। ये दोनों मिलकर यूजर्स के फोन की डिवाइस आईडी, सब्सक्राइबर आईडी, MAC एड्रेस आदि को इकट्ठा करते हैं और डेवलपर के रिमोर्ट सर्वर पर भेज देते हैं।

 

Advertisements