बड़ी कार्रवाई:तहसीलदार निलंबित, CMO समेत एक दर्जन अधिकारियों को नोटिस, वेतन वृद्धि रोकी

Advertisements

भोपाल। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में लापरवाही पर फिर बड़ी कार्रवाई की गई है। मुरैना में श्योपुर में अतिवृष्टि तथा बाढ़ आपदा की स्थिति में राहत राशि समय पर वितरण नहीं करने, मौके पर जाकर स्थल निरीक्षण नहीं करने के आरोप में श्योपुर जिले की वीरपुर तहसील के तहसीलदार को तत्काल प्रभाव से निलंबित (Suspended) किया गया है।

यह कार्यवाही कलेक्टर श्योपुर (sheopur collector) के प्रतिवेदन पर की गई है। इसके पूर्व तहसीलदार को उनके कार्यों के प्रति लापरवाही उदासीनता बरतने के आरोप में कारण बताओ नोटिस जारी किया गया था।

रतलाम में शासन (MP Government) की सर्वोच्च प्राथमिकता के मुख्यमंत्री हेल्पलाइन कार्यक्रम की समीक्षा कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम द्वारा सोमवार को बैठक में की गई। इस दौरान खराब परफॉर्मेंस पाए जाने पर रतलाम शहर को छोड़कर बाकी सभी स्थानों के तहसीलदारों को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश कलेक्टर द्वारा दिए गए।कलेक्टर ने निर्देश दिए कि राजस्व विभाग के अधिकारी आवेदकों शिकायतकर्ताओं के आवेदनों का निराकरण संतुष्टिपूर्वक करें। निराकरण में टालु प्रवृत्ति के शब्दों का उपयोग नहीं किया जाए। जहां आवश्यक हो पटवारी को भेजकर शिकायतकर्ता से बात की जाए। यदि वह संतुष्ट है तो फोर्स क्लोज किया जाए।

रतलाम कलेक्टर (Ratlam Collectot) द्वारा अन्य विभागों की भी समीक्षा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन के तहत की गई। समय अवधि पत्रों की बैठक में सामाजिक न्याय विभाग की मुख्यमंत्री हेल्पलाइन  (CM Helpline) में निराकरण की रैकिंग 43 पाए जाने पर कलेक्टर द्वारा नाराजगी व्यक्त की गई। सुधार लाने के निर्देश दिए गए।सहकारिता विभाग का प्रदर्शन भी कमजोर पाया गया। नगर निगम का परफारमेंस उत्कृष्ट पाया गया। कलेक्टर ने स्पष्ट निर्देश दिए कि किसी भी विभाग की रैकिंग 20 से नीचे नहीं जाने पाए। उचित मूल्य दुकानों से वितरित होने वाले राशन की समीक्षा भी कलेक्टर द्वारा की गई।

इसे भी पढ़ें-  7th pay Commission Pension: रिटायरमेंट के साथ मिलेगी सातवें वेतन आयोग के हिसाब से पेंशन, इस राज्य सरकार ने लिया बड़ा फैसला

CMO को चेतावनी पत्र जारी

अनुपपुर कलेक्टर (Anuppur Collector) सुश्री सोनिया मीना ने सीएम हेल्पलाइन अंतर्गत लंबित शिकायतों का समय पर निराकरण नहीं करने पर नगरपालिका बिजुरी की मुख्य नगरपालिका अधिकारी सुश्री मीना कोरी को चेतावनी पत्र जारी किया है। आपने सुश्री कोरी को निर्देशित किया है कि 07 दिवस के अंदर लिखित जवाब प्रस्तुत करें, जवाब संतोषजनक नहीं होने पर सिविल सेवा नियंत्रण एवं अपील नियम 1966 के अनुसार अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

विदित हो कि 26 जुलाई 2021 को समय-सीमा की बैठक में सीएम हेल्पलाईन पोर्टल अंतर्गत नगरीय विकास एवं आवास विभाग का अवलोकन करने पर पाया गया कि सुश्री कोरी द्वारा 57 लंबित शिकायतों का निराकरण समय-सीमा में नहीं किया गया है।

इसे भी पढ़ें-  बिकरू कांड - तीन दिन की दुल्हन कैसे बनी आठ पुलिस वालों की हत्यारी: बिकरू कांड से 72 घंटे पहले पहुंची थी नाबालिग खुशी

कलेक्टर ने थमाया कईयों को नोटिस

मुरैना में टीएल बैठक में जन अभियान परिषद के समन्वयक सतीश सिंह तोमर अनुपस्थित पाये गये। महाअभियान में जन अभियान परिषद की महत्वपूर्ण भूमिका को ध्यान में रखते हुये कलेक्टर (Morena Collector) बी कार्तिकेयन ने असंतोष व्यक्त करते हुये जन अभियान परिषद के समन्वयक तोमर को तत्काल प्रभाव से कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये हैं।वही कलेक्टर बी कार्तिकेयन पीएम स्ट्रीट वेंडर योजना के तहत नगरीय क्षेत्रों की समीक्षा कर रहे थे। जिसमें सीएमओ बानमोर बैठक में अनुपस्थित पाये गये। कलेक्टर ने नगरपालिका बानमोर के अधीनस्थ कर्मचारी से सीएमओ के अनुपस्थित होने का कारण पूछा तो बताया कि स्वास्थ्य खराब है। इस पर कलेक्टर ने एक दिन का वेतन काटने एवं कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।

वहीं समीक्षा के दौरान मुख्य नगरपालिका अधिकारी जौरा बालकृष्ण गोरखिया द्वारा लक्ष्य के अनुरूप कार्य नहीं करने पर कारण बताओ नोटिस तथा अगले हफते में 30 लोगों को लाभान्वित करने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने कहा कि अगर ये 30 लोग लाभान्वित नहीं हुये तो पूरे सप्ताह का वेतन नहीं दिया जायेगा। कलेक्टर ने नगरपालिका कैलारस के CMO से पीएम स्ट्रीट वेंडर योजना की समीक्षा की जिसमें पिछले हफ्ते 20 लोगों को लाभान्वित करने का लक्ष्य दिया था। सीएमओ द्वारा पूर्ण नहीं करने पर कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।

इसे भी पढ़ें-  Gujarat Cabinet Reshuffle Live: गुजरात में पूरे मंत्री बदल डाले

वेतन वृद्धि रोकी

इसके अलावा मुरैना में पात्र परिवारों को राशन का वितरण नहीं करने पर चंबल संभाग के श्योपुर जिले के प्रभारी जिला आपूर्ति अधिकारी एन एस चौहान की दो वेतनवृद्धि रोकने संबंधी कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। यह कार्यवाही चंबल संभाग के कमिश्नर आशीष सक्सेना द्वारा की गई है। कमिश्नर ने संबंधी प्रभारी जिला आपूर्ति अधिकारी के विरूद्ध मध्यप्रदेश सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण व अपील नियम 1966 के नियम 16 के तहत आगामी दो वेतन वृद्धियां असंचयी प्रभाव से रोकने का कारण बतााओ नोटिस जारी किया है।

मुरैना कलेक्टर बी कार्तिकेयन जिले के 84 ग्रामों की समीक्षा कर रहे थे। जो गांव बाढ़ प्रभावित चिन्हित किये गये थे। उन गांव में सड़क बिजली पानी मुहैया कराना शासन की प्राथमिकता है। किंतु बैठक के दौरान PMJSY के प्रबंधक आर के कोरी अुनपस्थित पाये गये। इस पर कलेक्टर ने कोरी को अवकाश स्वीकृत बिना, मुख्यालय छोड़ना, अनुशासनहीनता की श्रेणी में मानते हुये कलेक्टर ने महाप्रबंधक कोरी को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।

Previous article
Advertisements