जश्न-ए-आजादी LIVE: लाल किले से PM मोदी ने दिया नया मंत्र- सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास

Advertisements

India Independence Day 2021 LIVE: आज पूरा देश स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है और आजादी के जश्न में डूबा है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराया।

अब देश को संबोधित कर रहे हैं। आज का दिन इसलिए भी खास है क्योंकि लाल किले पर पहली बार पुष्प वर्षा होगी। साथ ही साथ देश आजादी के 75वीं वर्षगांठ को ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के तौर पर मना रहा है।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की आजादी का 75वां वर्ष मनाने के लिए मार्च 2021 में गुजरात के अहमदाबाद के साबरमती आश्रम से ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ शुरू किया था, जो 15 अगस्त, 2023 तक जारी रहेगा। राजधानी दिल्ली के चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने पहले राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी की समाधि राजघाट पर फूल चढ़ाया और बापू को नमन किया। इसके बाद वह लाल किला पहुंचे, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने स्वागत किया। पीएम मोदी ने तिरंगा फहराया। अब से उनका संबोधन हो रहा है।। इस मौके पर टोक्यो ओलंपिक में शामिल हुए खिलाड़ी भी हैं। तो चलिए जानते हैं जश्न-ए-आजादी के हर अपडेट।

इसे भी पढ़ें-  Shivraj Cabinet: 23 लाख से ज्यादा लोगों को गांव में ही मिलेगा राशन, युवाओं को रोजगार

लाल किले से बोले पीएम मोदी, छोटा किसान बने, देश की शान

गांव में जो हमारी सेल्फ हेल्प ग्रुप से जुड़ी 8 करोड़ से अधिक बहनें हैं, वो एक से बढ़कर एक प्रॉडक्ट्स बनाती हैं। इनके प्रॉडक्ट्स को देश में और विदेश में बड़ा बाजार मिले, इसके लिए अब सरकार ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म तैयार करेगी। देश के 80 प्रतिशत से ज्यादा किसान ऐसे हैं, जिनके पास 2 हेक्टेयर से भी कम जमीन है।पहले जो देश में नीतियां बनीं, उनमें इन छोटे किसानों पर जितना ध्यान केंद्रित करना था, वो रह गया। अब इन्हीं छोटे किसानों को ध्यान में रखते हुए निर्णय लिए जा रहे हैं। पीएम मोदी ने कहा कि हमारा संकल्प है कि छोटा किसान बने देश की शान।

इसे भी पढ़ें-  जबलपुर में टेंशन, जुलूस के दौरान पुलिस पर पथराव

कश्मीर में चुनाव की हो रही तैयारी- मोदी

पीएम मोदी ने कहा कि सभी के सामर्थ्य को उचित अवसर देना, यही लोकतंत्र की असली भावना है। जम्मू हो या कश्मीर, विकास का संतुलन अब ज़मीन पर दिख रहा है। जम्मू कश्मीर में डी-लिमिटेशन कमीशन का गठन हो चुका है और भविष्य में विधानसभा चुनावों के लिए भी तैयारी चल रही है। लद्दाख भी विकास की अपनी असीम संभावनाओं की तरफ आगे बढ़ चला है। एक तरफ लद्दाख, आधुनिक इंफ्रास्ट्रक्चर का निर्माण होते देख रहा है तो वहीं दूसरी तरफ ‘सिंधु सेंट्रल यूनिवर्सिटी’ लद्दाख को उच्च शिक्षा का केंद्र भी बनाने जा रही है।

गांवों में भी पहुंच रहा इंटरनेट

देश के जिन ज़िलों के लिए ये माना गया था कि ये पीछे रह गए, हमने उनकी आकांक्षाओं को भी जगाया है। देश मे 110 से अधिक आकांक्षी ज़िलों में शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण, सड़क, रोज़गार, से जुड़ी योजनाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। इनमें से अनेक जिले आदिवासी अंचल में हैं। आज हम अपने गांवों को तेजी से परिवर्तित होते देख रहे हैं। बीते कुछ वर्ष, गांवों तक सड़क और बिजली जैसी सुविधाओं को पहुंचाने रहे हैं। अब गांवों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क, डेटा की ताकत पहुंच रही है, इंटरनेट पहुंच रहा है। गांव में भी डिजिटल Entrepreneur तैयार हो रहे हैं।

इसे भी पढ़ें-  Lakhimpur Kheri case: सुप्रीम कोर्ट ने यूपी सरकार से रिपोर्ट देरी से भेजने पर जताई नाराजगी, 26 अक्टूबर तक टली सुनवाई

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के विकास के आधार बनेंगे

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा पूर्वी भारत, नॉर्थ ईस्ट, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख सहित पूरा हिमालय का क्षेत्र हो, हमारी कोस्टल बेल्ट या फिर आदिवासी अंचल हो, ये भविष्य में भारत के विकास का बड़ा आधार बनेंगे।

Advertisements