Babalu Panda murder: करीबी दोस्त को मिलाकर बबलू पंडा को ठिकाने लगाया

Advertisements

जबलपुर/मंडला। करीबी दोस्त को गुट में मिलाकर बदमाशों ने दिलीप सिंह उर्फ बबलू पंडा पिता श्याम सिंह भदौरिया निवासी बिलहरी गोराबाजार को ठिकाने लगा दिया। पुलिस की पतासाजी में यह जानकारी सामने आई है। हमलावरों व बबलू पंडा के मोबाइल की सीडीआर से पुलिस करीबी मुखबिर का पता लगाने की कोशिश में जुट गई है।

इधर, बीजाडांडी पुलिस का कहना है कि पैसों के लेनदेन के कारण पंडा की हत्या की गई। हत्याकांड को अंजाम देने के लिए 12 बोर की बंदूक व देसी कट्टे का इस्तेमाल किया गया था। बीजाडांडी पुलिस ने बताया कि गुरुवार को पंडा वाहन चालक संदीप सिंह ठाकुर तथा साथी माधव कुरील के साथ अपने फार्म हाउस पर गया था। जुए की कमाई से उसने केलवास गांव में फार्म हाउस बनाया था। वहां से लौटते समय पंडा साथियों समेत दशमेश ढाबा में भोजन करने रुका था। जहां पहुंचे आकाश सोनकर, अमित श्रीवास्तव व अन्य हमलावरों ने उस पर ताबड़तोड़ गोली चला दी। पुलिस की गिरफ्त में आए आकाश व अमित ने बताया कि वे पंडा का पीछा करते हुए जबलपुर से मंडला पहुंचे थे। मौका मिलते ही ढाबा में उसकी हत्या कर दी।

इसे भी पढ़ें-  Home Guard: होमगार्ड जवानों को ड्यूटी के दौरान मिलेगा मुफ्त नाश्‍ता-भोजन, गृहमंत्री ने की घोषणा

हमले में पंडा के साथी माधव कुरील को भी चोटें आई हैं। पुलिस ने आरोपित आकाश सोनकर निवासी भानतलैया व अमित श्रीवास्तव निवासी रानीताल व अन्य 3-4 बदमाशों के विरुद्ध धारा 302, 307, 294, 34 के तहत एफआइआर दर्ज की है।

चूल्हे की जलती लकड़ी से पीट डाला: उधारी चुकाने में असमर्थ युवक को कर्ज देने वाले ने चूल्हे की जलती लकड़ी से बेरहमी से पीटा। चरगवां पुलिस ने बताया कि बिजना निवासी अजय कुमार गोंड 41 वर्ष ने राधे यादव से 12 सौ रुपये उधार लिए थे। परिस्थितिवश वह रकम नहीं चुका पाया। घटना के समय वह अपनी पत्नी व अन्य मजदूरों के साथ खेत में निदाई कर रहा था। तभी राधे यादव व गुड्डू ठाकुर वहां पहुंचे। बातचीत करने के बहाने दोनोें अजय को कुछ दूर एक टपरे में ले गए। जहां 12 सौ की खातिर राधे ने चूल्हे की जलती लकड़ी से उसे पीट डाला। राधे की पत्नी व अन्य लोग बीच बचाव करने पहुंचे तो हमलावर जान से मारने की धमकी देकर भाग गए।

Advertisements