Jabalpur News: जबलपुर में दस ग्रामीणों को ठगने के लिए तहसीलदार का बेटा बन गया आरआइ RI

Advertisements

जबलपुर। पीएम आवास का पट्टा दिलाने के नाम पर साढ़े तीन साल से ग्रामीणों को ठग रहे फर्जी राजस्व निरीक्षक (आरआइ) को पकड़ लिया गया है।

उसे पनागर से भाजपा विधायक इंदू तिवारी के समर्थकों ने सोमवार को पकड़ा। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि पनागर क्षेत्र के सैकड़ों ग्रामीणों को वह ठग चुका है।

फर्जी आरआइ से पूछताछ कर कार्यकर्ताओं ने अधारताल पुलिस के हवाले कर दिया। घटनास्थल विजय नगर होने के कारण उसे संबंधित थाने में सौंपा गया है। जहां उससे कड़ी पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने नहीं सुनी तो विधायक को बताया : जानकारी के मुताबिक महाराजपुर निवासी राजकुमार दुबे स्वयं को राजस्व निरीक्षक बताकर पनागर क्षेत्र के ग्रामीणों से ठगी कर रहा था।

इसे भी पढ़ें-  जबलपुर में टेंशन, जुलूस के दौरान पुलिस पर पथराव

उसने स्वयं का आरआइ का परिचय पत्र बनवा लिया था जिसके चलते ग्रामीण उस पर भरोसा करने लगे। पीएम आवास का पट्टा व शासन की अन्य योजनाओं का लाभ दिलाने के नाम पर वह ग्रामीणों से वसूली करने लगा।

सामने आए 12 ग्रामीणों से राजकुमार एक लाख 20 हजार की ठगी कर चुका है। पुलिस ने बताया कि राजकुमार के पिता स्व. राजेंद्र प्रसाद दुबे तहसीलदार पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

करीब साढ़े तीन साल पूर्व राजकुमार पनागर के गांवों में सक्रिय हुआ। पीएम आवास का लाभ दिलाने के नाम पर उसने पनागर निवासी संदीप दुबे से 10 हजार रुपये ठग लिए थे। पनागर के ही रज्जू उर्फ राम विश्वकर्मा को शासकीय भूमि का पट्टा दिलाने के लिए एक लाख 20 हजार की ठगी की थी।

इसे भी पढ़ें-  जबलपुर में अतिथि शिक्षकों ने नर्मदा में उतरकर किया जल सत्याग्रह

बताया जाता है कि पीडि़तों ने जालसाज दुबे की जानकारी पुलिस को दी थी। पुलिस ने कार्रवाई नहीं की तो विधायक इंदू तिवारी से राहत मांगी गई।

जिसके बाद उनके कार्यकर्ताओं ने उसे पकड़ लिया। उसके कब्जे से तमाम फर्जी दस्तावेज व परिचय पत्र जब्त किए गए। पुलिस की प्रारंभिक जांच में एक पार्षद तथा एक पटवारी की भूमिका संदिग्ध मिली है।

 

 

 

Advertisements