टेरर फंडिंग केस में जमात-ए-इस्लामी पर NIA की बड़ी कार्रवाई, 14 जिलों के 45 ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी

Advertisements

जम्मू-कश्मीर में टेरर फंडिंग मामले में बड़ी कार्रवाई करते हुए राष्ट्रीय जांच एजेंसी यानी एनआईए ने 14 जिलों में 45 ठिकानों पर छापेमारी की। छापेमारी में एनआईए के साथ ही जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ के जवान भी शामिल थे। इस दौरान जमात-ए-इस्लामी नाम के प्रतिबंधित संगठन के सदस्यों के आवासों पर रेड की गई। इस अलगाववादी संगठन को पाकिस्तान समर्थक होने की वजह से साल 2019 में ही केंद्र सरकार ने प्रतिबंधित घोषित कर दिया था।

 

प्रतिबंध के बावजूद घाटी में जमात-ए-इस्लामी की गतिविधियां बढ़ने के बाद एनआईए ने यह छापेमारी की है। इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, छापेमारी से पहले दिल्ली से एक वरिष्ठ डीआईजी और टीम श्रीनगर पहुंचे थे।

श्रीनगर, बडगाम, गंदेरबल, बारामूला, कुपवाड़ा, बांदीपुरा, अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, कुलगाम, रामबन, डोडा, किश्तवाड़ और राजौरी जिलों में छापेमारी की घई।

इससे पहले 31 जुलाई को भी एनआईए ने जम्मू-कश्मीर में 14 ठिकानों पर आईडी रिकवरी और लश्कर-ए-मुस्तफा के टॉप कमांडर हिदायतुल्लाह मलिक से जुड़े मामले में छापेमारी की थी।

प्रतिबंध के बावजूद घाटी में जमात-ए-इस्लामी की गतिविधियां बढ़ने के बाद एनआईए ने यह छापेमारी की है। इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, छापेमारी से पहले दिल्ली से एक वरिष्ठ डीआईजी और टीम श्रीनगर पहुंचे थे।

श्रीनगर, बडगाम, गंदेरबल, बारामूला, कुपवाड़ा, बांदीपुरा, अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, कुलगाम, रामबन, डोडा, किश्तवाड़ और राजौरी जिलों में छापेमारी की घई।

इससे पहले 31 जुलाई को भी एनआईए ने जम्मू-कश्मीर में 14 ठिकानों पर आईडी रिकवरी और लश्कर-ए-मुस्तफा के टॉप कमांडर हिदायतुल्लाह मलिक से जुड़े मामले में छापेमारी की थी।

Advertisements