Flood: डीपो मैनेजर ने निभाई ड्यूटी, सरकार के लाखों रुपए बचाने के लिए बस की छत पर बिताए 7 घंटे

Advertisements

महाराष्ट्र में रविवार को हुई अभूतपूर्व बारिश और विभिन्न नदियों के उफान के कारण, रत्नागिरी, कोल्हापुर, सांगली और महाराष्ट्र के कई अन्य जिलों के कई इलाके जलमग्न हो गए हैं। कई लोगों की जान जा चुकी है। कई अभी भी लापता है।

इस बीच रत्नागिरी में एक बस डिपो के प्रबंधक ने क्षेत्र में भारी बाढ़ और बारिश के बीच दैनिक परिवहन राजस्व विभाग की एक बड़ी राशि की रक्षा के लिए लगभग सात घंटे तक एक बस के ऊपर डेरा डाला।

रत्नागिरी जिले में चिपलून बस डिपो के प्रबंधक रंजीत राजे शिर्डे भारी बारिश के बीच बाढ़ प्रभावित इलाके में फंस गए। क्षेत्र में भारी बाढ़ के कारण कई वाहन और बसें जलमग्न हो गईं।

इसे भी पढ़ें-  TRANSFER - राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के तबादले

फिर वह बस के ऊपर चढ़ गए क्योंकि यह एकमात्र स्थान था जो डूबा नहीं था। न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने बस की छत पर सात घंटे बिताकर दैनिक परिवहन राजस्व विभाग की 9 लाख रुपये की नकद राशि की रखवाली की। शिर्डे ने कहा कि अपने जीवन के बारे में सोचे बिना इस नकदी की रक्षा करना उनका मुख्य कर्तव्य था।

शिर्डे ने कहा, “पानी का स्तर हर मिनट बढ़ रहा था। अगर नकदी को कार्यालय में रखा जाता था, तो इसके भीगने और बह जाने की संभावना थी। मुझे जिम्मेदार ठहराया जाता। अपने बारे में सोचे बिना नकदी की रक्षा करना मेरा मुख्य कर्तव्य था। ” बाढ़ का पानी कम होने के बाद, शिर्डे ने बाद में स्थिति के बारे में महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम के रत्नागिरी मंडल कार्यालय को सूचित किया।

इसे भी पढ़ें-  युवा नेताओं की तलाश में राहुल गांधी, 28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल होंगे कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवाणी

 

 

 

Advertisements