Pujab Politics: सिद्धू+4 से खत्म होगा पंजाब का पंगा? सामने आया कांग्रेस का फॉर्मूला

Advertisements

Pujab Politics :  पंजाब कांग्रेस में सियासी उठापटक जारी है। यह लड़ाई मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच छिड़ी है। कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी के करीबी सूत्रों का कहना है कि इस संकट को सुलझा लिया गया है। जल्द ही नए फॉर्मूले की घोषणा कर दी जाएगी।

 

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी का आवास 10 जनपथ के करीबी सूत्र के अनुसार, जल्द ही हल होगा पंजाब कांग्रेस का संकट। आज नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष बनाए जाने की घोषणा कर दी जाएगी। उनके साथ 4 कार्यकारी अध्यक्षों के नाम का भी ऐलान होगा।

पंजाब कांग्रेस में रार के बीच आज प्रदेश के प्रभारी हरीश रावत ने शनिवार को चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह से मुलाकात की। बैठक के बाद हरीश रावत ने कहा कि कैप्टन ने कहा है कि उन्हें पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी का हर फैसला मंजूर होगा। ऐसे में बड़ा सवाल यह है कि एक रात पहले तक सिद्धू को लेकर नाराज बताए जा रहे अमरिंदर ने अचानक सब कबूल कैसे कर लिया है? रावत दिल्ली से ऐसा क्या संदेश लेकर चंड़ीगढ़ पहुंचे हैं? इसको लेकर कयासबाजी चल रही है।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: कटनी पुलिस विभाग में बड़ा फेरबदल, कोतवाली तथा कटनी टीआई बदले

 

हरीश रावत से मुलाकात के बाद कैप्टन अमरिंदर ने अभी तक कुछ नहीं कहा है, लेकिन उनके मीडिया सलाकार की ओर से जारी बयान के मुताबिक, पंजाब के सीएम ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से जो भी फैसला लिया जाएगा, उसका सब सम्मान करेंगे।

हालांकि, उन्होंने कुछ मुद्दे भी उठाए हैं, जिनपर रावत ने सोनिया गांधी से चर्चा का भरोसा दिया है। बैठक के बाद बाहर निकलने हरीश रावत ने भी इन्हीं शब्दों को दोहराया और कहा कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर ने कहा है कि पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी जो भी फैसला करेंगी, उसका वह सम्मान करेंगे।

इसे भी पढ़ें-  मोदी सरकार ने युवाओं को दिया बड़ा मौका, घर बैठे कमा सकते हैं 15 लाख रुपए, जाने डिटेल्स 

कलह के बीच सुनील जाखड़ से मिले नवजोत सिंह सिद्धू
कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब कांग्रेस के चीफ सुनील जाखड़ से उनके पंचकूला स्थित आवास पर मुलाकात की है। इस दौरान दोनों चेहरे पर मुस्कान लिए गर्मजोशी से एक-दूसरे से गले मिलते दिखे। हालांकि, इस मुलाकात के दौरान क्या बातें हुईं, यह अब तक सामने नहीं आया है। मगर इस मुस्कान भरी मुलाकात के सियासी मायने निकाले जाने शुरू हो गए हैं।

 

 

Advertisements