अयोध्या में हादसा: सरयू में डूबने से सात की मौत

Advertisements

आढ़ती अशोक गोयल के परिवार के साथ हुए हादसे की जानकारी से शास्त्रीपुरम के ए ब्लॉक में कोहराम मच गया। हर कोई अशोक गोयल के घर पहुंच गया। तब तक घर पर ताला ही लगा था। बेटा पदमेश अपनी दुकान पर था, जबकि उसकी पत्नी घर के पास ही दूसरे मकान में रहती है। पुलिस के पहुंचने पर पड़ोसियों को पता चला था। इस पर उन्होंने बेटे पदमेश को जानकारी दी। पदमेश घर आया तो सुधबुध खो बैठा, वहीं उसकी पत्नी खुशी बेहोश हो गई। उसे पड़ोस के लोग किसी तरह संभाल रहे थे। अशोक गोयल के पड़ोस में नगर निगम से सेवानिवृत्त सुखवीर सिंह रहते हैं। उन्होंने बताया कि अशोक गोयल का परिवार दो गाड़ियों में बृहस्पतिवार शाम को सात बजे घर से निकला था। परिवार के लोगों में अशोक की पत्नी राजकुमारी, बेटे पंकज, ललित, बेटियां जूली उर्फ गीता, आरती, सीता, सिल्की उर्फ गौरी, दामाद सतीश, नाती और नातिन सहित 15 लोग गए थे। अशोक गोयल ने इतना ही बताया था कि वह चार-पांच दिन के लिए तीर्थयात्रा पर जा रहे हैं। इससे ज्यादा कुछ जानकारी नहीं दी थी। वह अक्सर जाया करते थे, इसलिए कुछ नहीं पूछा। उनका बेटा पदमेश और उसकी पत्नी खुशी घर के पास ही दूसरे मकान में रहते हैं। शुक्रवार शाम को सात बजे पुलिस के पहुंचने पर उन्हें हादसे की जानकारी हो सकी। हर कोई परिवार का हाल जानना चाहता था।बेहद दुखद घटना
परिवार काफी सीधा है। राजकुमारी का स्वभाव काफी अच्छा है। वह जब भी दरवाजे पर देखती थी, बात जरूर करती थीं। यह घटना बेहद दुखद है। – वंदना, पड़ोसी

इसे भी पढ़ें-  मोदी सरकार ने युवाओं को दिया बड़ा मौका, घर बैठे कमा सकते हैं 15 लाख रुपए, जाने डिटेल्स 

श्रीराम मंदिर निर्माण की करते थे बात
परिवार अक्सर मुझसे मिलने आता था। उनसे बातचीत होती थी। वह श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर बात किया करते थे। यह हादसा हो जाएगा सोचा नहीं था। – मंजू वार्ष्णेय, पार्षद पड़ोसियों ने बताया अक्सर तीर्थयात्रा पर जाते थे
पड़ोसी मुन्नी देवी ने बताया कि जैसे ही हादसे के बारे में पता चला, आ गई। बेहद दुखद घटना है। परिवार के लोग अक्सर तीर्थ यात्रा पर जाया करते थे।

भगवान से यही प्रार्थना है कि परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। परिवार के सभी लोगों का स्वभाव काफी अच्छा है। – गोकलेश, कॉलोनी निवासीपरिवार के साथ बहुत बुरा हुआ
परिवार के साथ बहुत ही बुरा हुआ है। राजकुमारी बेहद मृदुभाषी थी। इस कारण ही जब भी मिलती थीं, उनसे बात होती थी। वह परिवार के हालचाल के बारे में बताती थी, और पूछती थी। – शीला चौधरी

इसे भी पढ़ें-  New Labour Code: PF- सप्ताह में चार दिन काम तीन दिन छुट्टी? मोदी सरकार एक अक्टूबर से नियम बदलने की तैयारी में, सैलरी और पीएफ पर भी पड़ेगा असर

सरकार की ओर से मिले मदद
कॉलोनी के परिवार के साथ बहुत ही दुखद घटना हुई है। परिवार को सरकार की ओर से मदद मिलनी चाहिए। – राखी, कॉलोनी निवासी

पूरी कॉलोनी दुख में शामिल
पुलिस के पहुंचने पर हमें हादसे की जानकारी हो सकी। इस पर बेटे को बताया। कॉलोनी के सभी लोग परिवार के दुख में शामिल हैं और उनकी मदद के लिए तैयार हैं। – पंकज कुमार, पड़ोसी

Advertisements