School Education स्कूल ऑनलाइन कक्षा में भी नई यूनिफार्म में शामिल होने का डाल रहे दबाव

Advertisements

Bhopal Education News : भोपाल। कोरोना काल में अधिक फीस वसूलने के साथ ही अब निजी स्कूल ऑनलाइन कक्षा में नई यूनिफॉर्म पहनकर बैठने का दबाव बच्चों व अभिभावकों पर डाल रहे हैं। इतना ही नई कॉपी-किताबें खरीदने को भी लगातार कहा जा रहा है।

इससे अभिभावक परेशान हो रहे हैं। भोपाल के सागर पब्लिक स्कूल, कॉर्मल कॉन्वेंट सहित अन्य स्कूलों के बच्चों के अभिभावकों ने जिला शिक्षा अधिकारी के पास शिकायत की है कि इस कोरोना काल में फीस के साथ-साथ नई यूनिफॉर्म बनवाना मुश्किल है।

अभिभावकों का कहना है कि सागर पब्लिक स्कूल ने टीशर्ट का रंग बदल दिया है। पिछले साल की यूनिफार्म पहनकर बैठने पर ऑनलाइन कक्षा में शिक्षक बच्चों को डांट रहे हैं। बच्चों से नई यूनिफार्म पहनकर ऑनलाइन कक्षा में शामिल होने के लिए दबाव डाला जा रहा है। हर साल निजी स्कूल अभिभावकों को कॉपी-किताब और यूनिफार्म एक निश्चित दुकान से ही खरीदने के लिए कहते हैं। दूसरी दुकानों पर मिलती भी नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें-  Heavy Rain Red Alert in MP: ग्वालियर, चंबल में भारी बारिश का रेड अलर्ट, भोपाल, उज्जैन संभाग सहित छतरपुर, टीकमगढ़, सागर में भी झमाझम के आसार

अभिभावकों का कहना है कि कोरोना काल में फीस में वृद्धि कर दी गई है। अब स्कूल यूनिफॉर्म और कॉपी-किताब लेने का दबाव बना रहे हैं। वहीं निजी स्कूल प्रशासन का कहना है कि जिनके पास यूनिफार्म है, वे ऑनलाइन कक्षा में पहनकर बैठें, ताकि घर में भी स्कूल का वातावरण लगे। इससे अनुशासन बना रहेगा।

स्कूल ने बदला यूनिफार्म का रंग

अभिभावकों का कहना है कि सागर पब्लिक स्कूल ने टीशर्ट का रंग बदल दिया है। पिछले साल की यूनिफार्म पहनकर बैठने पर ऑनलाइन कक्षा में शिक्षक बच्चों को डांट रहे हैं। बच्चों से नई यूनिफार्म पहनकर ऑनलाइन कक्षा में शामिल होने के लिए दबाव डाला जा रहा है। हर साल निजी स्कूल अभिभावकों को कॉपी-किताब और यूनिफार्म एक निश्चित दुकान से ही खरीदने के लिए कहते हैं। दूसरी दुकानों पर मिलती भी नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर: सागर में संक्रमण ने फिर पैर पसारे : 7 नए कोरोना पॉजिटिव मिले

बच्चे करते रहे ऑनलाइन कक्षा का इंतजार

भेल के जवाहर लाल नेहरू स्कूल ने अभिभावकों को परेशान करने का नया तरीका निकाला है। सोमवार को कक्षा छठवीं की हिंदी और कंप्यूटर की कक्षाएं शिक्षक के कक्षा में आए बगैर ही संपन्न् हो गई। सुबह 9:30 बजे से 10:15 बजे तक गणित विषय की ऑनलाइन कक्षा चली, लेकिन शिक्षक ने ज्वॉइन नहीं किया। स्कूल द्वारा ऑनलाइन कक्षा 21 जून से संचालित होनी थी, लेकिन नहीं हुई। एक जुलाई के बाद कक्षाएं प्रारंभ हुई हैं।

बच्चे करते रहे ऑनलाइन कक्षा का इंतजार

भेल के जवाहर लाल नेहरू स्कूल ने अभिभावकों को परेशान करने का नया तरीका निकाला है। सोमवार को कक्षा छठवीं की हिंदी और कंप्यूटर की कक्षाएं शिक्षक के कक्षा में आए बगैर ही संपन्न् हो गई। सुबह 9:30 बजे से 10:15 बजे तक गणित विषय की ऑनलाइन कक्षा चली, लेकिन शिक्षक ने ज्वॉइन नहीं किया। स्कूल द्वारा ऑनलाइन कक्षा 21 जून से संचालित होनी थी, लेकिन नहीं हुई। एक जुलाई के बाद कक्षाएं प्रारंभ हुई हैं।

इसे भी पढ़ें-  नर्सिंग होम एक्ट में खामी का फायदा उठाकर एक डॉक्टर के नाम से चल रहे कई अस्पताल

यूनिफॉर्म को लेकर स्कूलों की दुकानों से साठगांठ है। तभी अभिभावकों को ऑनलाइन कक्षा के लिए भी विद्यार्थियों को नई यूनिफॉर्म में तैयार होकर बैठने के लिए दबाव डाला जा रहा है। – प्रबोध पंड्या, महासचिव, पालक महासंघ

स्कूल यूनिफॉर्म में शामिल होना अनुशासन है। फिर भी शिक्षक बच्चों पर दबाव नहीं बना सकते हैं। अगर पिछले साल की यूनिफार्म है तो पहनकर बच्चे शामिल हो सकते हैं। जो स्कूल दबाव डाल रहे हैं उन पर कार्रवाई की जाएगी। – नितिन सक्सेना, जिला शिक्षा अधिकारी

बच्चों को स्कूल के यूनिफार्म में इसलिए ऑनलाइन कक्षा में शामिल होने के लिए कहा जाता है, क्योंकि अनुशासन बना रहे और स्कूल जैसा माहौल लगे। – प्रियंका एस, जनसंपर्क अधिकारी, कॉर्मल कॉन्वेंट

 

 

Advertisements