Edible Oil Price: बाजार में सस्ते तेल के लिए अभी और इंतजार

Advertisements

Edible Oil Price। केंद्र सरकार द्वारा मंगलवार शाम लिए निर्णय से खाद्य तेल में बढ़ती महंगाई से राहत की उम्मीद जागी है। दामों पर नियंत्रण के लिए केंद्र सरकार ने पाम तेल के आयात पर शुल्क घटा दिया है।

बाजार में इसका असर अभी नजर नहीं आ रहा। सोया तेल की सबसे बड़ी मंडी इंदौर में खाद्य तेल के दाम बुधवार को भी मंगलवार के स्तर पर बने रहे। कारोबारियों का एक पक्ष महंगे तेल से राहत के लिए अभी इंतजार की बात कह रहा है, जबकि व्यापारियों के दूसरे वर्ग का मानना है कि सरकार ने शुल्क कटौती के दायरे से सोयाबीन तेल को बाहर रखा है।

इसे भी पढ़ें-  Aryan Khan Drug Case: आर्यन खान की जमानत याचिका पर फैसला आज, NCB ने इंटरनेशनल ड्रग रैकेट में शामिल होने का जताया है शक

ऐसे में उपभोक्ताओं को बड़ी राहत मिलने की उम्मीद फिलहाल बेमानी है।

मंगलवार शाम वित्त मंत्रालय ने कच्चे पाम तेल (सीपीओ) और प्रोसेस्ड पाम तेल (आरबीडी) पर आयात शुल्क कटौती का आदेश दिया। सीपीओ पर आयात शुल्क 15 से घटाकर 10 फीसद और आरबीडी पर 45 से घटाकर 37.5 फीसद किया गया। 30 से नए शुल्क लागू भी हो गए। माना जा रहा था कि सरकार के फैसले से तेल सस्ता होगा।

हालांकि सोया तेल की प्रमुख मंडी इंदौर के बाजार में बुधवार को सरकार के शुल्क कटौती के फैसले का असर नहीं दिखा।

थोक से खेरची बाजार तक दाम कम नहीं हुए। मंगलवार को खेरची बाजार में सोया तेल (खुला) के दाम 138 से 140 रुपये किलो थे, जो बुधवार को भी बरकरार रहे। थोक में तो दामों में गिरावट के बजाय थोड़ा सुधार हो गया।
मंगलवार शाम वित्त मंत्रालय ने कच्चे पाम तेल (सीपीओ) और प्रोसेस्ड पाम तेल (आरबीडी) पर आयात शुल्क कटौती का आदेश दिया। सीपीओ पर आयात शुल्क 15 से घटाकर 10 फीसद और आरबीडी पर 45 से घटाकर 37.5 फीसद किया गया। 30 से नए शुल्क लागू भी हो गए। माना जा रहा था कि सरकार के फैसले से तेल सस्ता होगा। हालांकि सोया तेल की प्रमुख मंडी इंदौर के बाजार में बुधवार को सरकार के शुल्क कटौती के फैसले का असर नहीं दिखा। थोक से खेरची बाजार तक दाम कम नहीं हुए। मंगलवार को खेरची बाजार में सोया तेल (खुला) के दाम 138 से 140 रुपये किलो थे, जो बुधवार को भी बरकरार रहे। थोक में तो दामों में गिरावट के बजाय थोड़ा सुधार हो गया।

Advertisements