शादी और सात फेरो के बाद दूल्हा समेत धरने पर बैठी पूरी बारात

Advertisements

रांची के धुर्वा इलाके में एक शादी समारोह में अजीबोगरीब घटना हुई। वरमाला हो गया। सात फेरे भी हो गए। जब सिंदूर दान की बारी आई तो दुल्हन मंडल से अचानक उठकर चली गई। दुल्हन ने कहा कि उसे दूल्हा पसंद नहीं है, इसलिए वह शादी नहीं करेगी।

इस घटना के बाद शादी समारोह में अफरातफरी मच गई। इसी बीच दुल्हन के मां-बाप बेटी का समझाने पहुंचे, लेकिन लड़की नहीं मानी। दुल्हन के इनकार के बाद दूल्हा समेत बारात पक्ष के लोग समारोह स्थल पर ही धरने पर बैठ गए और शादी में हुए अबतक के खर्च हुई राशि लौटाने की मांग करने लगे।

इसे भी पढ़ें-  बदायूं में एक और ऑनरकिलिंग: थाने से चंद कदम दूर भाइयों ने काटा बहन का गला, हाईकोर्ट से मांगी थी सुरक्षा

करीब चार घंटे की मशक्कत के बाद दुल्हन पक्ष के लोगों ने लिखित दिया कि वह शादी के खर्च लौटा देंगे। इसके बाद बारात वापस हुई।

जानकारी के अनुसार मांडर इलाके के रहने वाले विनोद लोहरा की शादी धुर्वा के मौसीबाड़ी में रहने वाली चंदा से तय थी। 29 जून को विनोद बरात लेकर चंदा के घर पहुंचा। शादी की रस्में शुरू हुई। वरमाला हुआ। दूल्हा-दुल्हन ने सात फेरे भी ले लिए, लेकिन जैसे ही सिंदूर दान की बारी आई दुल्हन मंडप से उठ कर चली गई। दुल्हन के अचानक मंडप से उठ जाने से अफरा तफरी मच गई। लोग तरह-तरह की बातें करने लगे। उसके बाद मां-बाप समझाने पहुंचे तो लड़की ने यह कहते हुए शादी से इनकार कर दिया कि दूल्हा उसे पसंद नहीं है।

इसे भी पढ़ें-  International Tiger Day: पीएम मोदी ने वाइल्डलाइफ प्रेमियों को दी बधाई, बाघों के लिए सुरक्षित आवास सुनिश्चित करने की प्रतिबद्धता दोहराई

लाख समझाने पर भी दुल्हन नहीं मानी
पूरी रात सिंदूरदान पूरा करने के लिए लड़का और लड़की पक्ष दुल्हन को समझाते रहे लेकिन दुल्हन नहीं मानी। दूसरी तरफ दुल्हन द्वारा शादी से इनकार करने के बाद लड़का पक्ष वाले धरने पर बैठ गए ,यह कहकर कि जब तक शादी में हुए खर्च की का एक-एक पाई उन्हें नहीं मिल जाता वह यहां से नहीं जाएंगे। बुधवार सुबह दुल्हन पक्ष के लोग पहुंचे। उन्होंने लिखित रूप से आश्वासन दिया कि वह खर्च की राशि धीरे-धीरे करके लौटा देंगे। इसके बाद बारात वापस हुई।

Advertisements