बड़ी खबर: MP में 9वीं-11वीं के छात्रों को दी गई बड़ी राहत, मिला दूसरा मौका

Advertisements

भोपाल, मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में स्कूल शिक्षा विभाग (school education department) द्वारा कक्षा 9वी अरे 11वीं के छात्रों को बड़ी राहत दी गई है। दरअसल MP Board 9वी और 11वीं के वैसे छात्र, जिन्होंने तिमाही और छमाही परीक्षा (Quarterly and Half Yearly Examination) नहीं दिया।

उन्हें दूसरा मौका दिया जा रहा है। छात्र Open book system के जरिए परीक्षा दे सकेंगे। इसके लिए लोक शिक्षण संचालनालय परीक्षा को लेकर आदेश जारी किए हैं।

दरअसल मध्यप्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर के बीच ऑफलाइन माध्यम (offline mode) के जरिए फरवरी महीने में छात्र-छात्राओं की परीक्षा आयोजित की गई थी।

इसे भी पढ़ें-  कोरोना से जंग: जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे जा रहे 10 में से तीन सैंपल हो रहे खराब

वही परीक्षाओं के बाद रिजल्ट भी घोषित किए जा चुके हैं जबकि फेल होने वाले और संक्रमित होने की वजह से परीक्षा में भाग नहीं लिया था। ऐसे वंचित स्टूडेंट को बड़ा मौका दिया है।

तिमाही छमाही परीक्षा में भाग लेने वाले छात्र ओपन बुक पद्धति (open book system) के माध्यम से परीक्षा दे सकेंगे।
तिमाही-छमाही की परीक्षा के लिए छात्र छात्राओं को स्कूल आकर प्रश्न पत्र (question) और उत्तर पुस्तिका (answer sheet) लेनी होगी। वही परीक्षा देने के बाद सभी छात्र छात्राओं को प्रश्न पत्र और उत्तर पुस्तिका 2 जुलाई तक स्कूल में उपलब्ध करानी होगी।

मामले में लोक शिक्षण संचनालय की आयु पर जयश्री कियावत (jayshree kiyawat) ने सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए हैं। 29 जून से लेकर 2 जुलाई 2021 तक कक्षा MP Board 9वी और 11वीं के परीक्षार्थियों को स्कूल में ही प्रश्न पत्र और उत्तर पुस्तिका उपलब्ध कराए जाएंगे। जबकि छात्र छात्राएं 5 जुलाई तक आंसरशीट स्कूल में जमा करेंगे। 2 दिन के भीतर छात्र छात्राओं के उत्तर पुस्तिका जांचे जाएंगे जबकि 7 जुलाई को 9वी और 11वीं के छात्रों का रिजल्ट घोषित किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें-  यूपी-एमपी में लगातार बारिश से उफनाई मंदाकिनी, चित्रकूट में सड़कों पर चल रही नाव

इससे पहले फरवरी में MP Board 9वी और 11वीं आयोजित हुई ऑफलाइन मोड की परीक्षा में कई परीक्षार्थी शामिल नहीं हो सके थे। इसकी वजह कई विद्यार्थियों का कोरोना संक्रमित होना था। जिसके स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा कहा गया था कि विद्यार्थियों को तिमाही-छमाही परीक्षा में शामिल होने का दूसरा मौका दिया जाएगा।

Advertisements