Dangerous Love: शादी में रुकावट बन रही प्रेमिका समेत उसके परिवार के 5 सदस्यों को मारकर दफना दिया

Advertisements

नेमावर (देवास) Dangerous Love। मध्य प्रदेश के देवास जिले के नेमावर में एक ही परिवार के 5 लोगों की हत्या कर उन्हें खेत में दफनाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इस वारदात में जो वजह सामने आई है वो और भी चौकाने वाली है।

एक युवक का इस परिवार की लड़की के साथ प्रेम प्रसंग था, जब उसकी शादी हो रही थी तो युवती रुकावट बनने लगी। तभी उसने प्रेमिका समेत उसके परिवार के 5 लोगों को मौत के घाट उतार दिया और फिर खेत में गहरा गड्ढा करके सभी को एक साथ दफन कर दिया। 13 मई को नेमावर बस स्टैंड के पीछे किराए के मकान में रहने वाले परिवार के गायब होने की सूचना उनकी पीथमपुर में रहने वाली लड़की भारती ने दर्ज करवाई थी। पुलिस ने जांच की और 5 लोगों को हिरासत में लिया।

इसे भी पढ़ें-  सहकारी संस्थाओं में आउटसोर्स कर्मचारी भर्ती नियम बदले

पुलिस ने सूचना के आधार पर नेमावर निवासी हुकुम सिंह चौहान के आत्माराम बाबा मेला मार्ग स्थित खेत में हाली (खेतिहर मजदूर) का काम कर रहे व्यक्ति को थाने लाकर सख्ती से पूछताछ की तो उसने खेत मालिक के पोते 25 वर्षीय सुरेंद्र पुत्र लक्ष्मण सिंह चौहान व उसके छोटे भाई भुरू के संबंध में जानकारी दी।

इसके बाद दोनों को थाने लाकर सख्ती से पूछताछ की तो दोनों टूट गए और पांचों गुमशुदा के शव खुद के खेत में गड्ढा खोदकर गाड़ने की बात कही। पुलिस ने जेसीबी से खुदाई करवाई और नगर परिषद के सफाई कर्मियों की मदद से गड्ढे की मिट्टी निकालकर ममताबाई , 21 वर्षीय रूपाली पुत्री मोहनलाल, 14 वर्षीय दिव्या पुत्री मोहनलाल, 15 वर्षीय पूजा पुत्री रवि ओसवाल, 14 वर्षीय वन पुत्र रवि ओसवाल के शव बरामद किए। महिला का पति मोहनलाल कास्ते पीथमपुर में काम करता है। ग्रामीण एएसपी सूर्यकांत शर्मा ने बताया कि पुलिस लगातार सभी को ढूंढने में जुटी हुई थी। उसी के परिणाम स्वरूप शव बरामद हुए हैं।

इसे भी पढ़ें-  बड़ी खबर : PoK में गुप्त बैठक और 200 हत्या का लक्ष्य; जम्मू-कश्मीर में हुए आतंकी हमलों के पीछे ISI का हाथ, पाक फिर हुआ बेनकाब

सुरेंद्र का रूपाली से था मिलना-जुलना

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक ममता देवी की बहन के दो बच्चे भी लापता थे। बहन इंदौर में रहती है। प्रारंभिक तौर पर यह सामने आया है कि रूपाली के साथ सुरेंद्र का मिलना- जुलना था। सुरेंद्र की कहीं और शादी होने वाली थी, जिस पर रूपाली ने आपत्ति ली थी। इस पर सुरेंद्र ने साथियों के साथ मिलकर हत्या कर शवों को खेत में दफना दिया।

Advertisements