Asteroid is Near to the globe : पृथ्वी के बेहद करीब पहुंचा ब्लू व्हेल जितना बड़ा एस्टाॅरोइड, बड़ा है खतरा

Advertisements

Asteroid is Near to the globe : NASA ने इस सप्ताह के अंत तक एक बड़े एस्टेराइड को पृथ्वी के निकटतम से गुजरने के संकेत दिए हैं। उन्होनें बताया कि यह क्षुद्रग्रह एक यात्री विमान के आकार का रहेगा। जिसका नाम 2021 LV2 रखा गया है। इस क्षुद्र ग्रह को लेकर नासा के वैज्ञानिकों का मनना है कि इसकी लंबाई लगभग 100 फीट यानी 30 मीटर की है और इसका आकार एक हवाई जहाज के अकार का है। इसे धरती पर सबसे बड़े जीव ब्लू व्हेल जितना बड़ा भी बताया जा रहा है। यह एस्टोराॅइड अंतरिक्ष में पृथ्वी की ओर 7.4 किलोमीटर प्रति सेकंड की चाल से या 26,000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गति कर रहा है। इसकी गति से अनुमान लगाते हुए नासा ने इसका विश्लेषण कर पता लगाया कि यह क्षुद्रग्रह 26 जून शनिवार को पृथ्वी के सबसे नजदीक से गुजरेगा। इसे लेकर यह भी बताया जा रहा है कि जब यह चट्टान पृथ्वी के निकट होगी तो इसकी और पृथ्वी की दूरी लगभग 1.7 मिलियन किलोमीटर के समानातंर होगी। नासा के अनुसार अगर अभी भी देखा जाए तो पृथ्वी के सबसे निकट अगर कोई वस्तु है तो वह यही स्टोराॅइड 2021LV2 है।

इसे भी पढ़ें-  90 हजार लेकर दिव्यांग से कराई शादी, रात को भागी दुल्हन

इस एस्टोराॅइड को लेकर नासा ने अपनी जेपीएल वेबसाइट पर कहा कि ‘‘एनईओ धूमकेतु और क्षुद्रग्रह को पास के ग्रह से गुरूत्वाकर्षण के आकर्षण के कारण उनकी स्थिति में बदलाव हुआ है इसी वजह से यह एस्टाॅरोइड पृथ्वी के निकट से 26 जून को गुजरने वाला है। विशाल ग्रह जैसे बृहस्पति, शनि, यूरेनस और नेपच्यून अरबों धूमकेतुओं के समूह से बने हैं और इन समूहों को बनने में जो चट्टान के टुकड़े बच गए हैं उन्हें हम एस्टाॅरोइड के रूप में देखते रहते हैं। पृथ्वी के निकट आने वाले इस क्षुद्रग्रह में भी बुध, शुक्र और मंगल के अवशेष शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें-  CBSE 12th Evaluation Criteria: इस फॉर्मूले से तैयार हुआ है सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट

क्षुद्रग्रह को पृथ्वी की निकटता से गुजरने को लेकर यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी ने इसे चेतावनी देते हुए बताया कि यह चट्टान पृथ्वी के लिए खतरा भी हो सकती है। यह संभावित रूप से हमारे ग्रह से टकरा भी सकती है। इतना ही नहीं इसका आकार जितना बड़ा है और जितनी स्पीड से यह पृथ्वी की ओर आ रहा है उसके अनुमान से अगर यह पृथ्वी से टकराता है तो पृथ्वी को इससे बहुत नुकसान भी हो सकता है।

Advertisements