अब योग पर भी नेपाल ने किया दावा, पीएम केपी शर्मा ओली की बिगड़ी बोली- भारत में नहीं हुई थी शुरुआत

Advertisements

भगवान राम का जन्मस्थान भारत की बजाय नेपाल में होने का दावा करने के बाद अब नेपाली पीएम ने योग पर भी दावा ठोका है। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने कहा कि योग की शुरुआत भारत में नहीं बल्कि नेपाल से हुई थी।

योग दिवस पर एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए ओली ने कहा कि नेपाल में योग तब से प्रचलित है, जब भारत एक राष्ट्र के तौर पर अस्तित्व में भी नहीं आया था। ओली ने कहा, ‘एक राष्ट्र के तौर पर भारत के उभार से कहीं पहले योग नेपाल में प्रचलित था। जब योग प्रचलित हुआ, तब भारत का गठन नहीं हुआ था। उस दौर में भारत जैसा कोई देश नहीं था।’

इसे भी पढ़ें-  पीरबाबा दरगाह में चोरी की वारदात का पर्दाफाश, कमेटी ने पुलिस का किया सम्मान

ओली ने कहा कि उस दौर में भारत जैसा कोई देश नहीं था, तब कुछ राज्य ही थे। इसलिए योग नेपाल या फिर उत्तराखंड के आसपास शुरू हुआ था। यह भारत में शुरू नहीं हुआ था। नेपाली पीएम ने कहा कि योग की खोज करने वाले संतों को इसका क्रेडिट नहीं दिया गया।

केपी शर्मा ओली ने कहा कि उनका देश योग को पूरी दुनिया में नहीं पहुंचा सका, लेकिन भारत ने इसे अंतरराष्ट्रीय लेवल पर ख्याति दिलाई है। ओली ने कहा, ‘हमने कभी अपने उन संतों को क्रेडिट नहीं दिया, जिन्होंने योग की खोज की थी। हमने हमेशा प्रोफेसर्स और उनके योगदान के बारे में ही बात की। लेकिन हम योग पर सही ढंग से अपना दावा नहीं कर सके।

इसे भी पढ़ें-  जम्मू-कश्मीर में 14 ठिकानों पर NIA की छापेमारी, ड्रोन हमले को लेकर कर रही जांच

केपी बोले- हम असफल रहे, पीएम मोदी ने योग को दुनिया में पहुंचाया
ओली ने कहा कि हम योग को पूरी दुनिया में नहीं पहुंचा सके। भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने योग को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव दिया था और उत्तरी गोलार्ध पर सबसे बड़े दिन के मौके पर इसका आयोजन शुरू हुआ। इस तरह से योग को पूरी दुनिया में ख्याति मिल पाई है। इससे पहले केपी शर्मा ओली ने भगवान राम को लेकर भी बीते साल जुलाई में दावा किया था कि उनका जन्म भारत के अयोध्या में नहीं बल्कि नेपाल में ही हुआ था।

ओली ने कहा था, नेपाल में ही हुआ था देवी सीता का निधन
ओली ने कहा था कि राम का जन्म नेपाल के चितवन जिले के अयोध्यापुरी इलाके में हुआ था। केपी शर्मा ओली ने कहा था, ‘अयोध्यापुरी नेपाल में था। बाल्मीकि आश्रम भी नेपाल में ही अयोध्यापुरी के निकट है। इसके अलावा नेपाल के ही देवघाट इलाके में देवी सीत का निधन हुआ था। वह स्थान भी अयोध्यापुरी और वाल्मीकि आश्रम के ही निकट है।’

Advertisements