Indian Overseas bank और Central bank of India का होगा निजीकरण, 51% हिस्सेदारी बेचेगी सरकार

Advertisements

केंद्र सरकार जल्द ही दो और सरकारी बैंकों का निजीकरण करने जा रही है। इसके लिए सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया (Central Bank Of India) और इंडियन ओवरसीज बैंक (Indian Overseas Bank) का चयन किया गया है। नीति आयोग को निजीकरण के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के दो बैंकों और एक बीमा कंपनी का नाम चुनने की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। नीति आयोग ने अपनी रिपोर्ट में इन दोनों बैंकों के नाम की सिफारिश की। केंद्र सरकार इन दोनों सरकारी बैंकों में अपने हिस्से का विनिवेश (Disinvestment) करेगी। पहले चरण में 51 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की योजना है।

मीडिया सूत्रों के मुताबिक, इन दोनों बैंकों के निजीकरण के लिए सरकार को बैंकिंग रेगुलेशन एक्ट समेत कुछ अन्य कानूनों में भी बदलाव करना होगा। साथ ही RBI के साथ भी चर्चा की जाएगी। मानसून सत्र में इससे संबंधित बिल पेश किया जा सकता है। वैसे, इस खबर के बाद स्टॉक मार्केट में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और इंडियन ओवरसीज बैंकों के शेयर में 20% का इजाफा हुआ है। IOB के शेयर, जो इस खबर के पहले 19.85 रुपये पर थे, अचानक 19.80% चढ़कर 23.60 रुपये पर पहुंच गए। वहीं सेंट्रल बैंक के शेयर 20 रुपये से 19.80% चढ़कर 24.20 रुपये पर पहुंच गए।

Advertisements

इसे भी पढ़ें-  अपनी ही शादी में धुंए के छल्ले बनाती दिखी दुल्हन, Video