बुजुर्ग की पिटाई के मुख्य आरोपी प्रवेश गुर्जर को भी जमानत, पुलिस चाहती थी रिमांड

Advertisements

लोनी में बुजुर्ग की पिटाई के मामले के मुख्य आरोपी प्रवेश गुर्जर को शुक्रवार को अदालत ने जमानत दे दी। पुलिस प्रवेश गुर्जर का रिमांड चाहती थी लेकिन नहीं मिल सका।

इससे पहले कल गिरफ्तार किए गए 4 आरोपियों को भी जमानत दे दी गई। इस मामले अभी तक गिरफ्तार हुये सभी 9 लोगों को जमानत मिल चुकी है।

इससे पहले पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ने बताया था कि मुख्य आरोपी प्रवेश गुर्जर को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लिया जाएगा। उससे अभी काफी पूछताछ की जानी बाकी है।

आरोपी की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें वह विधायक लिखी गाड़ी के पास खड़ा है और कमर में पिस्टल रखा है। रिमांड के दौरान पुलिस आरोपी से यह पिस्टल भी बरामद करने का प्रयास करेगी।

इसे भी पढ़ें-  शिया मुसलमानों का जानी दुश्मन बना ISIS, खुलेआम चेताया- जहां भी रहोगे, हम तुम्हें मार देंगे

जमानत मिलने के बाद घर से गायब हुए आरोपी
इससे पहले जमानत पर बाहर आए कल्लू उर्फ अभय व आदिल अपने घरों से गायब हैं, जबकि उमेद पहलवान के घर भी कोई नहीं है। गुरुवार दोपहर हिंदुस्तान की टीम राम विहार कॉलोनी स्थित प्रवेश गुर्जर के घर उसके परिजनों का पक्ष जानने के लिए पहुंची तो वहां ताला लटका मिला। आसपास के लोगों ने बताया कि यह घर बुधवार सुबह से ही बंद है। दोपहर करीब दो बजे टीम आदिल के घर पहुंची तो वह घर पर नहीं मिला, उसके पिता सलीम पहलवान ने बताया कि क्षेत्र में सांप्रदायिक सौहार्द कायम रखना प्राथमिकता है। बुजुर्ग के साथ मारपीट करना गलत था। आरोपियों को सजा मिलनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें-  Aryan Khan Drugs Case: ‘कसम खाता हूं, जेल से बाहर जाकर ड्रग्स को नहीं लगाऊंगा हाथ’, जानें आर्यन खान ने NCB से और क्या कहा

इस मामले में नामजद किए गए उमेद पहलवान के घर भी कोई नहीं मिला। उनके घर के दरवाजे अंदर से बंद थे और खटखटाने पर किसी ने भी दरवाजा नहीं खोला। कल्लू उर्फ अभय गुर्जर का संगम विहार कॉलोनी में मकान है, लेकिन उसके घर पर भी ताला बंद मिला। उनके चाचा विनोद नागर ने बताया कि उनका एक मकान राजनगर एक्सटेंशन गाजियाबाद में भी है। कल्लू की जमानत के बाद समस्त परिवार वहीं चला गया है।

इस मामले में गुरुवार को गिरफ्तार किए गए इंतजार व बौना के परिजनों ने भी इस मामले में कोई बयान देने से साफ इनकार कर दिया। शाम चार बजे घर में महिलाओं के अलावा कोई नहीं था।

Advertisements